शैक्षणिक सत्र के तीन माह बीतने के बाबजूद साइकिलों का नहीं हो पा रहा वितरण

By: Anil Kumar

Updated On:
25 Aug 2019, 05:10:40 PM IST

  • शैक्षणिक सत्र के तीन माह बीतने के बाबजूद साइकिलों का नहीं हो पा रहा वितरण
    खुले में पड़ी हजारों साइकिलें हो रहीं खराब

रीवा/अतरैला. शिक्षण सत्र के तीन माह गुजर गए हैं लेकिन विभाग द्वारा छात्रों को अभी तक साइकिलों का वितरण नहीं किया जा सका है। जिससे विद्यालय परिसर में हजारों साइकिलें खुलें में पड़ी खराब हो रही हैं। इससे विभाग की लापरवाही तो सामने आ रही है साथ ही शासन की इस योजना का लाभ छात्र-छात्राओं को नहीं मिल पा रहा है।

खुले मैदान में पड़ी हैं साइकिलें
मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग भोपाल द्वारा कक्षा ६वीं एवं 9वी में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को साइकिल प्रदाय करने के निर्देश दिये गये हंै। जिससे शाउमावि सितलहा में लगभग दो हजार साइकिलें तैयार करके भेज दी गई हैैं। लेकिन उनका वितरण अभी तक नहीं कराया गया है। साइकिलें विद्यालय के खुले मैदान में रखा गयी है। जो बरसात में खराब भी हो रही हैं। इसपर छात्र-छात्राओं एवं अभिवावकों ने नाराजगी जाहिर करते हुए शीघ्र साइकिल वितरण कराये जाने की मांग की है। बताया गया है कि विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय जवा अन्तर्गत कक्षा 9वीं में अध्ययनरत 1600 एवं कक्षा 6वीं के 600 पात्र छात्र-छात्राओं को साइकिल प्रदाय किये जाने का निर्देश जिला षिक्षाधिकारी कार्यालय रीवा द्वारा प्रचार्यों को दिये गये हंै। लेकिन हाईस्कूल एवं हायर सेकेन्डरी के प्राचार्यों की मनमानी के अभी तक साइकिलों का वितरण नहीं हो पा रहा है जिसके चलते छात्र-छात्राएं पैदल विद्यालय आने को मजबूर हो रहे हैं। वहीं शासन की महत्वपूर्ण योजना का लाभ भी छात्र-छात्राओं को नहीं मिल पा रहा है।
साइकिल वितरण मे प्राचार्यों की रूचि नहीं
सायकिल वितरण में प्रचार्यों की रूचि दिख रही है। यहीं कारण है कि शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डभौरा, कोटवा, घूमन, गहिलवार, पनवार, रिमारी, पुरौना, चौखंडी, बरेतीकला, पैरा, भनिगवां सहित अन्य विद्यालयों में साइकिल का वितरण नहीं हो सका है। जब इस संबंध मे बीईओ आरएन सिंह ने कहा कि सभी प्रचार्यों को सूचित कर शीघ्र छात्र-छात्राओं को साइकिल वितरण कराये जाने को कहा गया है। यदि साइकिल का वितरण नहीं हो पा रहा है तो इसकी जांच कराई जाएगी।

Updated On:
25 Aug 2019, 05:10:40 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।