जरा संभलकर पीएं पानी! रेलवे की कैंटीन में बिक रहा एक्सपायरी रेल नीर

By: Bajrangi Rathore

Updated On:
24 Aug 2019, 11:22:10 PM IST

  • जरा संभलकर पीएं पानी! रेलवे की कैंटीन में बिक रहा एक्सपायरी रेल नीर

रीवा। रेलवे वाणिज्य विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही यात्रियों पर भारी पड़ रही है। मप्र के रीवा रेलवे स्टेशन पर सेहत से खिलवाड़ कर खराब खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराया जा रहा है। साफ-सफाई तो दूर की बात एक्सपायरी डेट का भी सामान धड़ल्ले से बेचा जा रहा है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी बेखबर हैं।

शनिवार को आनंद विहार ट्रेन के एक यात्री ने स्टेशन प्रबंधक से एक्सपायरी पानी की बोतल बेचने की शिकायत की। प्रबंधक ने तत्काल कैंटीन पहुंचकर देखा तो बड़ी मात्रा में पानी की एक्सपायरी डेट की बोतल पड़ी थी। फ्रिज में भी जो पानी की बोतल रखी थी वो भी एक्सपायरी थी।

स्टेशन प्रबंधक ने एक्सपायरी पानी की बोतल हटवाने के साथ ही कैंटीन संचालक के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए। कैंटीन के अंदर लगभग 10 पेटी रेल नीर की एक्सपायरी बोतल मिली है। स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-१ पर स्थित कैंटीन केडी मिश्रा को रेल आहार के नाम से आवंटित है।

इस कैंटीन से बेचे जा रहे रेल नीर की बोतल में निर्माण तिथि 11 नम्बर 2018 अंकित थी। पानी की बोतल में निर्माण तिथि से अधिकतम छह माह तक पानी का उपयोग किया जा सकता है। इस लिहाज से पानी की बोतल की वैधता अप्रैल में समाप्त हो गई है, लेकिन रेल नीर के एक्सपायरी होने के चार महीने बाद प्लेटफार्म क्रमांक 1 की कैंटीन में बकायदा फ्रीज में रखकर पानी बेचा जा रहा था।

वाणिज्य प्रबंधक कार्यालय से महज 100 मीटर दूरी पर स्थित इस कैंटीन में अधिकारी नहीं पहुंच पाते। यात्री की शिकायत के बाद तत्काल स्टेशन प्रबंधन रमेश सिंह ने क मर्शियल विभाग के अधिकारियों को लेकर कैंटीन पर पहुंचे। उनके पहुंचते ही कैंटीन संचालक पानी की बोतल फ्रिज से निकालकर अंदर छुपाने लगा लेकिन इसमें वह नाकाम रहा और कैंटीन से 10 पेटी एक्सपायरी रेल नील बरामद किया गया।

एक कैंटीन फिर भी जिम्मेदारों का यह हाल

रीवा रेलवे स्टेशन में सिर्फ एक कैंटीन व फूड प्लाजा है, जहां यात्रियों को खाने पीने की वस्तुएं मिलती हैं लेकिन इसके बावजूद वाणिज्य विभाग के अधिकारी कैंटीन की मॉनीटरिंग नहीं कर पाते हैं। अधिकारियों के सरंक्षण के चलते ही कैंटीन में ओवरचार्जिंग में भी वस्तुएं यात्रियों को उपलब्ध कराई जाती हैं।

यहां तक की बिना रसीद के यात्रियों को सामान विक्रय किया जा रहा है, जबकि रेलवे में बिना रसीद के कोई भी सामग्री बेचना प्रतिबंधित है। इसके बावजूद नियमों का पालन वाणिज्य विभाग के अधिकारी नहीं करा पर रहे हैं। कई बार यात्रियों ने ओवरचाॄजग और मनमानी सामान बेचने की शिकायत की, लेकिन सख्त कार्रवाई नहीं की गई।

रेल आहार के सिवाय सब कुछ

प्लेटफार्म-1 पर संचालित कैंटीन रेल आहार के लिए बनाई गई है। इसमें यात्रियों को खाने के लिए रियायती दर पर पूड़ी-सब्जी उपलब्ध करना है, कैंटीन में रेल आहार के अतिरिक्त सब कुछ बिक रहा है। वहीं प्लेटफार्म-2 के लिए अधिकृत ठेला को प्रवेशद्वार में लगाकर सामग्री का विक्रय किया जा रहा है, जिससे यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

Updated On:
24 Aug 2019, 11:22:10 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।