बांस-बल्लियों के सहारे दौड़ रहा करंट, बस्ती में मंडराता खतरा

By: Anil Kumar

Published On:
Aug, 12 2019 05:30 PM IST

  • बांस-बल्लियों के सहारे दौड़ रहा करंट, बस्ती में मंडराता खतरा

रीवा/बैकुंठपुर. हरिजन बस्ती के घरों तक बांस बल्लियों के सहारे बिजली का करंट दौड़ रहा है। जिससे बस्ती के अंदर हर वक्त खतरा मंडराता रहता है। हरिजन बस्ती में अभी तक खंभे गाड़कर बिजली नहीं पहुंचाई गई है। तेदुन सरपंच ने एक महीने पहले बिजली विभाग कार्यालय में सूचना भी दिया था कि बस्ती में नंगे तार से बिजली ले जाई गई है जो गंभीर हादसे का कारण बन सकती है। लेकिन विभाग के अधिकारियों ने इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की।

बांस-बल्ली का सहारा
बताया गया है कि इस ग्राम तेंदुन की हरिजन बस्ती में 70 साल के आजादी के बाद भी बांस बल्लियों के सहारे नंगे तार खीचकर लोग अपने घरों में बिजली जला रहे हैं। बताया गया है कि इस 14 वार्ड में 200 लोगों की आबादी है। यहां बिजली का खंभा गाड़कर लाइन खीची जानी चाहिए। लेकिन अभी तक बस्ती में खंभे नहीं गाड़े गए हैं। तेदुन सरपंच पन्नू देवी कोल ने 10 जुलाई को ग्रामीण महिलाओं के साथ बिजली विभाग उपकेंद्र बैकुंठपुर में उच्च अधिकारियों को यहां की समस्याओं का आवेदन दिया था। लेकिन एक माह हुआ अभी तक खंभे नहीं गाड़े गए। जबकि बीते साल महत गांव में 6 मवेशियों के साथ इंसानों की भी करंट लगने से मौत हो चुकी है। इसके बाद भी बिजली नहीं पहुंच सकी है। यही कारण है कि बस्ती के लोग कटिया लगाकर घरों तक बिजली ले गए हैं।

बिजली का बिल भी आता है
बस्ती के लोगों ने बताया कि खंभे नहीं गाड़े गए हैं लेकिन सभी लोगों के घरों में विभाग द्वारा बिल भेजा जाता है। सभी लोग बिल जमा भी करते हैं। लेकिन विभाग द्वारा खंभे गाड़कर इस बस्ती में सप्लाई नहीं दी जा रही है।

Published On:
Aug, 12 2019 05:30 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।