अधर में लटकी कॉलोनी के वैध होने की प्रक्रिया, विकास रुके

By: Manoj Awasthi

Updated On:
12 Sep 2018, 09:47:05 AM IST

  • नगर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा अनुरूप अवैध कॉलोनियों को वैध करने की प्रक्रिया फिलहाल अधर में लटकी हुई है।

रायसेन. नगर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा अनुरूप अवैध कॉलोनियों को वैध करने की प्रक्रिया फिलहाल अधर में लटकी हुई है। जबकि यह प्रक्रिया अगस्त महीने में पूर्ण कर लेना चाहिए थी। लेकिन इसमें एक की देरी हो चुकी है। बताया जा रहा है कि इस प्रक्रिया की फाइल कलेक्ट्रेट में अटकी हुई है। जिससे कार्य में विलंब हो रहा है।

कालोनाईजरों की मनमानी से तंग आ चुके रहवासियों सीएम की घोषणा के बाद उम्मीद जागी थी। लेकिन प्रशासनिक स्तर पर अभी इसमें काम नहीं हो सका। इस कारण वैध कालोनी की श्रेणी में आने वाले रहवासियों को इतंजार करना पड़ रहा है। वहीं नगर पालिका के इंजीनियर पीपी साहू का दावा है कि नपा सीमा क्षेत्र की सभी ५६ अवैध कॉलोनियों को वैध कर ली जाएंगी। अवैध कालोनियों के वैध नहीं होने से उनमें रहने वाले लोगों को मूलभूत सुविधाएं भी देरी से मिलेगी। फिलहाल बारिश का दौर चल रहा और लोगों को कच्ची सडक़ों से होकर गुजरना पड़ रहा है।

टेडर प्रक्रिया ओपन
विभागीय सूत्रों के अनुसार शहर की ५६ अवैध कॉलोनियों में से सभी को वैध कॉलोनियों में शामिल करना है। इनकी डीपीआर तैयार कराई जा रही है। ताकि यहां विकास कार्य पूर्ण कराए जा सकें। अब वैध कॉलेानियों से नगर पालिका संपत्ति कर जलकर आदि भी वसूला जा सकेगा। नपा सीएमओ ज्योति सुनेरे का कहना है कि मुख्यमंत्री की घोषणा के मुताबिक यह प्रक्रिया जल्द पूर्ण कर की जाएगी। उन्होंने यह बात भी स्वीकार की कि बारिश के कारण भी इस कार्य में थोड़ी देरी हुई है। नगर की ५६ अवैध कॉलोनियों को वैध कराए जाने के लिए टेंडर प्रक्रिया ओपन करवा ली गई है। कंस्टलटेंस से नक्शे बनवाकर बेवपोर्टल पर अपलोड कराने की प्रक्रिया कराना बाकी है।इन कॉलोनियों में ले-आउट और वर्क ऑर्डर भी दिया जाना है।

यह कॉलोनियां होंगी वैध
नपा से मिली जानकारी के सीएम की मंशानुरूप शहर की ५६ अवैध कॉलोनियों को वैध किया जाना है। इनमें वार्ड चार की वीआईपी कॉलोनी, रामनगर कॉलोनी, मनोरमा कॉलेानी, शांति नगर कॉलोनी, ड्रीमलेंड सिटी, सांई बिहार, प्रिंस बिहार कॉलोनी सहित अन्य कालोनियां शामिल हैं। इन कॉलोनियों को वैध किए जाने के बाद यहां के रहवासियों को सडक़, बिजली और पानी आदि की मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हो सकेगी।

अभी ये हं परेशानियां
शहर में कालोनाईजरों द्वारा प्लॉट एवं मकान मालिकों को पर्याप्त व्यवस्था एवं सुविधाओं का वादा कर उनसे मोटी कीमत वसूल कर ली गई। लेकिन ज्यादातर कालोनियों में मकान मालिकों को मूलभूत सुविधाएं भी आज तक नहीं मिल पा रही है। कहीं पर बिजली के खंभे की जगह बांस-बल्लियों पर लाइन खिंची हुई है। तो अधिकतर कालोनियों में कच्ची सडक़ के कारण दल-दल की स्थिति बनी है। खाली प्लॉटों में भरे पानी और निस्तार के पानी की निकासी भी बड़ी परेशानी सामने आ रही।

शहर की प्रमुख और अच्छी कालोनियों मेें भी पक्की सडक़ लोगों को नसीब नहीं हो सकी। क्योंकि कालोनाईजरों ने प्लॉट और मकान बेचकर सुविधाओं की तरफ ध्यान देना जरूरी नहीं समझा। ऐसे में रहवासी हर दिन परेशानी उठा रहे। सबसे ज्यादा दिक्कतें तो बारिश के दिनों में होती है। जब तेज बारिश के कारण उनके घरों तक पानी भरा जाता और पूरी कालोनी में अंधेरा पसरा रहता है।

- नगर पालिका सीमा क्षेत्र के तहत आने वाली ५६ अवैध कॉलोनियों को वैध कॉलोनियों में बदला जा रहा है। यह कार्य सीएम शिवराज सिंह चौहान के आदेश पर किया जा रहा है। इसकी फाइल कलेक्ट्रेट में लंबित है। फाइल आने के बाद आगे की प्रक्रिया पूर्ण कराई जाएगी। ताकि कॉलोनी के बाशिंदों को सडक़, बिजली और पानी सहित बुनियादी सुविधाएं मुहैया हो सकें।
पीके साहू, इंजीनियर नपा रायसेन

Updated On:
12 Sep 2018, 09:47:05 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।