डेंगू से बचाव के लिए घर-घर दस्तक देने लगी निगम की टीम,सहमे हुए हैं अफसर

By: Shiv Singh

Published On:
Aug, 11 2018 04:38 PM IST

  • घर-घर दस्तक देने के लिए निगम के द्वारा टीम भी तैयार की गई

रायगढ़. प्रदेश के भिलाई व रायपुर में डेंगू के बढ़ते प्रकोप से रायगढ़ नगर निगम के माथे पर भी चिंता की लकीरें नजर आने लगी है। यहीं वजह है कि निगम ने साफ-सफाई अभियान के साथ अब लोगों के घर-घर दस्तक दे रही है। इसमें लोगों को डेंगू से बचाव के लिए उपाय बताते हुए जागरूक कर रही है। वहीं सतर्क करने की भी नसीहत दे रही है। घर-घर दस्तक देने के लिए निगम के द्वारा टीम भी तैयार की गई है।


शहर में डेगू से बचाव के लिए विशेष दल बनाकर निगम अमले ने घर घर दस्तक देना शुरू कर दिया है। इसके तहत शनिवार को निगम की टीम वार्ड क्रमांक 21 में निगम आयुक्त के नेतृत्व में टीम एक-एक घरों में पहुंची। वहीं लोगों को डेंगू के बचाव के लिए सावधानी बरतने की बात कही।

टीम ने लोगों को अपील करते हुए बताया कि अपने घर के कूलरों के पानी को खाली कर सूखा कर के छत में या घर के किसी भी स्थान पर रखे। बर्तन, टीपा, हंडी, टायर जैसे अनावश्यक पड़े चीजों में पानी का ठहराव नहीं हो। इसके लिए उक्त सामान को साफ करके पलट कर रखने की बात कही।

साथ ही बताया कि कई घरों में पुराना अनुउपयोगी टंकी हो या कोई गड्ढे में पानी का ठहराव नहीं होने दे। उल्लेखनीय है कि डेंगू की रोकथाम की तैयारियों को लेकर निगम आयुक्त विनोद पांडेय बैठक लेकर विस्तृत कार्य योजना बनाई है। आयुक्त पांडेय ने बताया कि पूर्व वर्षो मे डेंगू के कहर को देखते हुए निगम के स्वास्थ्य अमले को शहर में डेंगू से बचने के लिए अलर्ट रहने और साफ सफाई सम्बन्धी सम्पूर्ण व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिया है। साथ ही लोगों को साफ-सफाई में विशेष ध्यान रखने के लिए जागरूक किया जा रहा है।


सतर्कता बरतने दी जानकारी
एमआईसी के स्वास्थ्य प्रभारी रामकृष्ण ने बताया चिकित्सकीय जानकारी अनुसार मौसम बदलाव के समय ठहरे व साफ पानी में उत्पन्न लारवा डेंगू होता है। नगर निगम वार्ड वार अपने स्तर से व पार्षदों के सहयोग से सफाई व कीटनासक दवाइयों का छिड़काव किया जा रहा है। निगम इस संक्रमण के बचाव के लिए मौसम बदलाव से पूर्व से ही प्रयासरत है। इस के लिए लोगों की सहयोग की आवश्यकता है, घर के बाहर नालियों का सफाई तो निगम व पार्षद के माध्यम से हो भी जाता है, लेकिन घर के अंदर की नालियों की सफाई का ध्यान घर वालो देना होगा। घर की नालियों की सफाई के लिए आवश्यकता पडऩे पर निगम से व पार्षद से सहयोग लिया जा सकता है।

Read more :
कैसे और कब होता है डेंगू
डेंगू मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। इन मच्छरों के शरीर पर चीते जैसी धारियां होती हैं। ये मच्छर दिन में, खासकर सुबह काटते हैं। डेंगू बरसात के मौसम और उसके तत्काल बाद के महीनों यानी जुलाई से अक्टूबर में सबसे ज्यादा फैलता है क्योंकि इस मौसम में मच्छरों के पनपने के लिए अनुकूल परिस्थितियां होती हैं।

एडीज इजिप्टी मच्छर बहुत ऊंचाई तक नहीं उड़ पाता। डेंगू बुखार से पीडि़त मरीज के खून में डेंगू वायरस बहुत ज्यादा मात्रा में होता है। जब कोई एडीज मच्छर डेंगू के किसी मरीज को काटता है तो वह उस मरीज का खून चूसता है। खून के साथ डेंगू वायरस भी मच्छर के शरीर में चला जाता है। जब डेंगू वायरस वाला वह मच्छर किसी और इंसान को काटता है तो उससे वह वायरस उस इंसान के शरीर में पहुंच जाता है, जिससे वह डेंगू वायरस से पीडि़त हो जाता है।


डेंगू से बचाव के लिए आम जनता क्या करे
-अपने घर के कूलरों के पानी को खाली कर सूखा रखे।
-घर के छत में या घर के किसी भी स्थान पर बतज़्न टीपा हंडी टायर जैसे अनावश्यक पड़े चीजो में पानी का ठहराव न हो उसे साफ करके पलट कर रख देवे ।
-घरों में पुराना अनुउपयोगी टंकी हो या कोई गड्ढे में पानी का ठहराव न होने दे।
-पक्षियों, जानवरों, के बर्तन व गमले में पानी जमा न होने दे।

Published On:
Aug, 11 2018 04:38 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।