रायगढ़. शहर के अधिकांश सौन्दर्यीकरण देखरेख के अभाव में अपना आकर्षण खो चुके हैं, लेकिन सबसे ज्यादा खराब स्थिति चक्रपथ मार्ग की है। यह मार्ग केलो नदी के किनारे हैं। ऐसे में इस मार्ग सुंदर बनाने के लिए आदिवासी संस्कृति की कलाकृति लगाई गई थी। इसमें जो प्रतिमा लगाई गई थी। वह जगह-जगह से टूट चुकी है। इसके वहीं चक्रपथ के दूसरी ओर मरीन ड्राइव मार्ग पर भी आकर्षक प्रतिमाएं लगाई गई थी। यह प्रतिमाएं भी मौजूदा समय में जगह-जगह से टूट चुकी है। इसके अलावा इसी चक्रपथ मार्ग पर सबसे पहले फैव्वारा लगाया गया था। यह लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र हुआ करता था, लेकिन निगम ने इसे पूरी तरह से भुला दिया है। मौजूदा समय में वहां लगाए गए फैव्वारे का ढांचा तो है, लेकिन वहां से सारे सामान गायब हो चुके हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।