West Bengal: प्रशांत किशोर बोले- BJP ने दहाई का आंकड़ा भी छुआ तो छोड़ देंगे ट्विटर

By: Mohit sharma

|

Updated: 21 Dec 2020, 04:04 PM IST

राजनीति

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में विधानसभा चुनाव ( Assembly Elections 2021 ) से पहले सियासी हलचल तेज हो गई है। एक ओर जहां पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) की ओर से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ( Union home minister amit shah ) मोर्चा संभाले हुए हैं, वहीं तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) की अध्यक्ष और राज्य की मुुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( West Bengal CM Mamata Banerjee ) भी चुनावी बाजी जीतने में कोई कसर बाकि नहीं छोड़ना चाहती। इस बीच चुनावी रणनीतिकार माने जाने वाले प्रशांत किशोर ( Election strategist Prashant Kishore ) ने बंगाल में भाजपा के भविष्य को लेकर बड़ा बयान दिया है।

West Bengal में बोले अमित शाह- हम 5 साल में सोनार बांग्ला बना कर रहेंगे

प्रशांत किशोर CM ममता बनर्जी के राजनीतिक सलाहकार

प्रशांत किशोर ने सोमवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी बंगाल में अगर 10 से ज्यादा सीटें भी जीतती है तो वह ट्विटर छोड़ देंगे। आपको बता दें कि प्रशांत किशोर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राजनीतिक सलाहकार भी हैं। प्रशांत किशोर ने एक के बाद एक किए कई ट्वीट में कहा कि भाजपा का उत्साह एक कल्पना मात्र है। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि मीडिया का एक वर्ग भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास कर रहा है। जिससे साफ होता है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा का कोई जनाधार नहीं है। अगर भाजपा बंगाल दहाई का आंकड़ा पार करती है तो वह ट्विटर छोड़ देंगे।

शुभेंदु को तोड़े जाने के बाद ममता बनर्जी ने बीजेपी से लिया बदला, शाह के करीबी की पत्नी को TMC में कराया शामिल

बंगाल : किसानों की जिद पर अमित शाह बोले - हां या न संवाद की भाषा नहीं

पश्चिम बंगाल में भाजपा सुनामी

वहीं, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव व प्रश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने प्रशांत किशोर के बयान पर पलटवार किया है। विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा कि पश्चिम बंगाल में भाजपा की लहर नहीं, बल्कि सुनामी चल रही हैं। प्रशांत किशोर पर निशाना साधते हुए उन्होंने लिखा कि सरकार बनने के बाद इस देश को एक चुनाव रणनीतिकार खोना पड़ेगा। आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसको लेकर राजनीतिक दलों ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है। हालांकि मुुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस पार्टी के बीच माना जा रहा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।