त्रिपुरा: कांग्रेस अध्यक्ष की गाड़ी पर हमले के बाद मचा घमासान, बंद का ऐलान

By: Mohit sharma

|

Updated: 18 Jan 2021, 04:54 PM IST

राजनीति

नई दिल्ली। त्रिपुुरा के अगरतला ( Tripura Congress ) से बड़ी खबर सामने आई है। यहां विपक्षी कांग्रेस ने पार्टी के राज्य अध्यक्ष पीयूष बिस्वास ( tripura congress chief pijush biswas ) पर कथित हमले के विरोध में आज यानी सोमवार को 12 घंटे के बंद का ऐलान किया है। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा के गुंडों ने हमला किया।" सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ( bjp ) ने हमले की निंदा की, और कांग्रेस से अपना आंदोलन वापस लेने का आग्रह किया।

Corona के बाद अब देश में Bird Flu की मार, जानिए गाजीपुर मंडी में 5 दिन के भीतर कितना नुकसान?

कांग्रेस के त्रिपुरा के उपाध्यक्ष तापस डे ने जानकारी देते हुए बताया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने 'कुख्यात गुंडों' के साथ शनिवार देर शाम बिशालगढ़ के सिपहीजाला जिले में हमला किया। जबकि राज्य पार्टी प्रमुख बाल-बाल से बच गए, पार्टी के कई कार्यकर्ता घायल हो गए। राज्य महासचिव हरेकृष्ण भौमिक, बापू चक्रवर्ती और तेजेन दास के साथ डे ने मीडिया को बताया, "हमला बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस की मौजूदगी में गुंडों द्वारा किया गया था। राज्य के पार्टी प्रमुख पर भाजपा के हमले का विरोध करने के लिए, हमने सोमवार को राज्यव्यापी 12 घंटे के बंद का आह्वान किया है।" कांग्रेस नेताओं ने कहा कि हमले के तुरंत बाद शनिवार रात को एफआईआर दर्ज कराई गई थी, लेकिन पुलिस ने अभी तक हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए कोई कदम नहीं उठाया। जाने-माने वकील बिस्वास ने बाद में मीडिया से कहा कि भाजपा के गुंडों ' ने मेरी हत्या करने के लिए हमला किया और मेरी कार को लोहे की छड़ों और लाठियों से बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया।"

Farmer Protest: 26 जनवरी को किसानों की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड, शामिल होंगे एक लाख किसान

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार न केवल अलोकतांत्रिक है, बल्कि शासन भी बर्बर तरीके से चला रही है। लोगों को भाजपा सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों का समर्थन करना चाहिए।"
उधर, भाजपा के राज्य मुख्य प्रवक्ता सुब्रत चक्रवर्ती ने सच्चाई का खुलासा करने के लिए मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की। उन्होंने कहा कि हम पुलिस से हमलावरों के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई करने का आग्रह करते हैं। जांच से पता चलेगा कि यह हमला है या कांग्रेस के आंतरिक झगड़े का नतीजा। कांग्रेस को बंद के आह्वान को वापस लेना चाहिए, क्योंकि इससे शांति और प्रगति में बाधा होगी।"

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।