Bihar: NDA में अंदुरूनी कलह, JDU के बाद अब मांझी ने BJP पर बोला हमला, कहा- नीतीश के खिलाफ की गई साजिश

By: Anil Kumar

|

Updated: 10 Jan 2021, 05:29 PM IST

राजनीति

पटना। बिहार में विधान सभा के चुनाव पिछले साल के आखिरी में संपन्न हुआ और नीतीश कुमार की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार बनाने में सफल रही। लेकिन तेजस्वी यादव की अगुवाई में चुनावी मैदान में उतरे विपक्षी दल ने भी कड़ी टक्कर दी और सरकार बनाने से चंद कदमों की दूरी पर ही रह गए।

इसको लेकर जमकर सियासत हुई और आरोप-प्रत्यारोप के साथ चुनाव में धांधली की बात विपक्ष की ओर से कही गई। इस चुनाव में जो सबसे अचंभित करने वाली बात रही वह ये कि नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (JDU) का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। वहीं भाजपा ने शानदार प्रदर्शन किया और ऐसा पहली बार हुआ कि बिहार NDA में BJP सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।

Bihar: CM नीतीश पर राबड़ी देवी का पलटवार- लालू जी की वजह से आपका सियासी वजूद

ऐसे में भाजपा से सियासी गणित और रणनीति में JDU के पिछड़ने के बाद NDA के अंदर ही कलह शुरू हो गया है। JDU की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के कई नेताओं ने हार के पीछे भाजपा को जिम्मेदार ठहराया था। वहीं अब NDA के एक और सहयोगी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) ने भी सवाल खड़े कर दिए हैं। HAM के प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने भाजपा पर निशाना साधा है।

नीतीश के खिलाफ की गई साजिश: मांझी

HAM के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने इशारों में ही भाजपा पर हमला बोलते साजिश रचने वाली पार्टी बताया। भाजपा का नाम लिए बिना मांझी ने कहा कि नीतीश कुमार के साथ चुनाव में साजिश हुई है। हालांकि उन्होंने ये कहा कि नीतीश कुमार की अगुवाई में सरकार पूरे पांच साल चलेगी।

मांझी ने ट्वीट करते हुए नीतीश कुमार की जमकर तारीफ की और कहा उन्हें गठबंधन धर्म बहुत अच्छे से निभाना आता है। उन्होंने कहा कि NDA गठबंधन में शामिल दल के आंतरिक विरोध व साजिशों के बावजूद भी उनका सहयोग करना नीतीश कुमार की महानता है।

Bihar Assembly Election Result: कांग्रेस नेता ने छेड़ा ईवीएम हैक का राग, जमकर हुए ट्रोल

मांझी ने कहा कि यदि राजनीति में गठबंधन धर्म सीखना हो तो नीतीश कुमार से सीखा जा सकता है। उन्होंने आगे लिखा कि नीतीश कुमार के इस जज्बे को सलाम। राजनीतिक विषलेशकों का मानना है कि बिहार NDA में आंतरिक कलह के बीच मंत्रीमंडल में एक और स्थान के साथ ही एमएलसी सीट को लेकर भी मांझी दबाव बनाने की कोशिश में हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।