पत्नी की मौत के बाद इस बुजुर्ग शख्स ने किया कुछ ऐसा काम कि देशभर में हो रहा नाम, सीएम योगी के बाद अब राष्ट्रपति कोविंद ने किया सम्मानित

By: suchita mishra

Updated On: 05 Oct 2018, 11:57:37 AM IST

  • दो अक्टूबर को किया था मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित। तीस सालों से खुद को कर दिया है स्वच्छता के लिए समर्पित।

     

पीलीभीत। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को पीलीभीत के स्वच्छता के सिपाही छोटे लाल कश्यप को सम्मानित किया। राष्ट्रपति ने उन्हें शॉल ओढ़ाई, बुके दिया और घड़ी पहनाकर उनका स्वागत किया। छोटे लाल को जल्द ही जिले में स्वच्छता अभियान का ब्रांड एबेंसडर बनाया जाएगा। बता दें कि दो अक्टूबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी छोटेलाल को सम्मानित किया था।

 

इसलिए हुए सम्मानित
शहर के मोहल्ला शेर मोहम्मद में रहने वाले छोटे लाल कश्यप बेशक छोटे से मकान में रहते हैं, लेकिन उनकी सोच बहुत बड़ी है। वे लगातार तीस वर्षों से अपने घर केआसपास मंदिरों, सड़क और चौराहा की सफाई करते आ रहे हैं। आसपास के लोगों को भी वे साफ सफाई रखने के लिए जागरूक करते रहे हैं। वे जगह जगह ठेला लेकर निकलते हैं और बिस्कुट बेचते हैं, इसी कमाई से उनका गुजारा चलता है। इस बीच वे लोगों को साफ सफाई रखने के लिए प्रेरित करते हैं। तीस साल पहले उनकी पत्नी का निधन हो गया था। तब से उन्होंने अपने को पूरी तरह स्वच्छता के प्रति समर्पित कर दिया।

जिलाधिकारी संग राष्ट्रपति भवन पहुंचे छोटेलाल
गुरुवार को दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में पीलीभीत निवासी छोटे लाल कश्यप जिलाधिकारी डॉ. अखिलेश मिश्र के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने पहुंचे। मुलाकात के दौरान जिलाधिकारी ने राष्ट्रपति को छोटेलाल कश्यप के स्वच्छता के प्रति समर्पण की जानकारी दी। जिलाधिकारी ने ये भी बताया कि हाल ही दो अक्टूबर को छोटेलाल कश्यप को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं राज्यपाल राम नाईक द्वारा भी सम्मानित किया गया है।

गोमती अभियान की राष्ट्रपति ने की तारीफ
इस मौेके पर जिलाधिकारी डॉ. अखिलेश मिश्र ने गोमती अभियान की एलबम भी भेंट की। इसके अलावा शब्दसत्ता की दो प्रतियां भी भेंट कीं जिसमें गोमती अभियान कथा प्रकाशित की गई है। राष्ट्रपति ने बताया कि उनको गोमती अभियान की जानकारी है। वे इससे प्रभावित भी हैं। गोमती पर काफी काम हुआ है और अभी भी काम हो रहा है। यह हमारी संस्कृति को बचाने में एक महत्वपूर्ण अभियान साबित होगा। जिलाधिकारी ने राष्ट्रपति से आग्रह किया कि वे भी गोमती उद्गम स्थल पर आएं। इस पर राष्ट्रपति ने उन्हें जल्द आने का आश्वासन दिया है।

Updated On:
05 Oct 2018, 11:57:36 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।