अगले 6 महीने यहां दर्शन देंगे बाबा केदार, बंद हुए केदारनाथ धाम के कपाट

By: Tanvi

|

Updated: 11 Nov 2018, 03:48 PM IST

तीर्थ यात्रा

केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए पूजा अर्चना के बाद 8:30 बजे बंद कर दिए गए हैं। भैय्या दूज के दिन ब्रह्म मुहूर्त में भगवान केदारनाथ की समाधि पूजा की गई। इस दौरान सेना के बैंडों की मधुर धुनों के बीच डोली गोरीकंड की ओर रवाना हुई, पहले दिन डोली ने रात्रि विश्राम के विए रामपुर पहुंची और उसके दूसरे दिन शनिवार को डोली गुप्तकाशी पहुंची। इसके बाद रविवार 11 नवंबर को डोली पंचकेदार गद्दीस्थल ओमकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में विराजमान हुई, जहां भगवान शिव की 6 महीने शीतकालीन पूजा-अर्चना भी हुई। यहां बाबा केदारनाथ ऊखीमठ में शीतकाल के 6 महीने अपने भक्तों को दर्शन देंगे। केदारनाथ में सेना के जवान के सहित पुलिस , श्रृद्धालुओं और अधिकारियों ने जमकर हिस्सा लिया। यहां बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे और इस साल लगभग 7 लाख 30 हजार श्रद्धालुओं ने बाबा केदार के दर्शन किए।

kedarnath

कपाट बंद करने को लेकर केदारनाथ मंदिर को लगभग दस कुन्तल गेंदे व अन्य फूलों से सजाया गया है। जहां मंदिर में सजे फूलों की खुशबू भक्तों को अपनी ओर आकर्षित कर रही है, वहीं मंदिर की खूबसूरती भी देखते ही बन रही है। उत्तराखंड में अन्य धर्मस्थल यमुनोत्री के मंदिर के कपाट भी शीतकाली के लिए बंद कर दिए गये हैं। अन्नकूट के पावन पर्व पर गुरुवार दोपहर 12.30 बजे विधि-विधान के साथ गंगोत्री मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए गए हैं। तत्पश्चात देवी यमुना डोली में अपनी शीतकालीन स्थली खरसाली के लिए रवाना हुईं। चार धाम तीर्थाटन के मंदिर हर साल छह महीने के लिए बंद कर दिये जाते हैं, क्योंकि सर्दियों में यह इलाका पूरी तरह बर्फ से ढक जाता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।