बदल गए बद्रीनाथ के नियम, अब बद्रीनाथ तक नहीं जा पाएंगे श्रद्धालु

By: Tanvi Sharma

Updated On:
21 Nov 2018, 12:39:06 PM IST

  • बदल गए बद्रीनाथ के नियम, अब बद्रीनाथ तक नहीं जा पाएंगे श्रद्धालु

उच्च हिमालय क्षेत्रों में स्थित चार धामों केदानाथ-बद्रीनाथ और गंगोत्री-यमुनोत्री के द्वार श्रृद्धालुओं के दर्शन के लिए हर वर्ष अक्टूबर और नवंबर में बंद कर दिए जाते हैं। जो दोबारा छह माह के शीतकाल के बाद अप्रैल-मई में खुलते हैं। गंगोत्री मंदिर के कपाट दीपावली के दूसरे दिन अन्नकूट पर्व पर बंद किए गए थे, जबकि केदारनाथ और यमुनोत्री के कपाट भैया दूज के दिन बंद कर दिए गए थे। वहीं मंगलवार, 20 नवंबर को शाम 3 बजकर 21 मिनट पर बद्रीनाथ धाम के कपाट भी बंद कर दिए गए हैं। मंगलवार के दिन बद्रीनाथ मंदिर को बहुत सुंदर व भव्य रूप से सजाया गया और कपाट बंद होने के अवसर पर भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। वहां मौजूद अधिकारियों द्वारा बताया गया की इस अवसर पर श्री बद्रीविशाल के दर्शन के लिए लगभग 5237 तीर्थयात्री पहुंचे थे और पूरी यात्रा के दौरान लगभग 1 लाख, 58 हजार 490 तीर्थयात्री पहुंचे थे।

badrinath door closed

तीन दिन तक चलती है बद्रीनाथ के कपाट बंद करने की प्रक्रिया

मंदिर के कपाट बंद होने की प्रक्रिया तीन दिन पहले पंच पूजाओं के साथ शुरु हो जाती है। कपाट बंद होते समय रावल जी द्वारा भगवान बदरीविशाल को माणा गांव से अर्पित घृत कंबल ओढ़ाया गया। भगवान को शीत से बचाव के लिए सर्दियों में इस धार्मिक परंपरा का निर्वाह किया जाता है।

आदि गुरु शंकराचार्यजी की गद्दी जोशीमठ, श्री उद्धवजी एवं कुबेरजी की डोली पांडुकेश्वर के लिए कल बुधवार को प्रस्थान करेगी। शंकराचार्य की गद्दी 21 नवंबर योगध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर प्रवास के पश्चात 22 नवंबर दोपहर को नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंचेगी जबकि श्री उद्वव जी एवं श्री कुबेर शीतकाल में पांडुकेश्वर में प्रवास करेंगे। इसी के साथ योगध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर एवं नृसिंह मंदिर जोशीमठ में भगवान बद्रीविशाल की शीतकालीन पूजाएं भी शुरू हो जाएगी।

Updated On:
21 Nov 2018, 12:39:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।