कलेक्ट्रेट कार्यालय की सड़क बनवाने के लिए प्रशासन ने रातों-रात कटवा दिए ऑवले के पेड़, लकडिय़ां भी गायब

पन्ना. जिला मुख्यालय में मिनी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत कलेक्ट्रेट भवन से होमगार्ड मैदान के बाहर मुख्य मार्ग तक सीसी रोड का निर्माण किया जा रहा है। उक्त क्षेत्र में ही होमागार्ड द्वारा सघन ऑवला के पौधों का रोपण किया गया था। ये पौधे इन दिनों फल देने लगे थे। इससे इन पौधों को काटे जाने का मीडियाकर्मियों द्वारा विरोध किया गया था।

आंवले के पेड़ों लग रहे थे फल-फूल
जिसके बाद प्रशासन द्वारा कम से कम पौधे काटे जाने की बात कही गईथी, लेकिन विरोध से बचन के लिए प्रशासन ने एक दर्जन से अधिक पेड़ों को रातोंरात कटवा दिया है। पेड़ों की कटाईअधिक नहीं दिखे इसके लिए उनकी लकड़ी को भी हटवा दिया गया। कलेक्ट्रेट तक पहुंचने के लिए अन्य कई स्थानों से भी मार्गका निर्माण किया जा सकता था। हालांकि प्रशासन द्वारा उक्त मार्ग को सर्वाधिक सुलभ बताया जा रहा था, जिसके लिए आंवला के फलते हुए पेड़ों की बलि दी गई।

पेड़ कटवाए जाने से आम लोगों में फैला आक्रोश
यह पेड़ कब काटे गए इनकी जानकारी किसी को नहीं लगी। प्रशासन द्वारा रातोंरात दर्जनों की संख्या में पेड़ों को कटवा दिया गया। साथ ही पेड़ों की लकडिय़ांं भी ठिकाने लगवा दी। गुरुवार सुबह कुछ पेड़ों की लकडिय़ा ही मिलीं। रातों रात पेड़ कटवाए जाने को लेकर आम जनता में असंतोष है। पर्यावरण प्रेमियों को भी ऐसी उम्मीद नहीं थी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।