VIDEO : पांच दिन बाद गांवों में सूख जाएगी पाइप लाइन, शहरों में हालात होंगे बुरे, अब वाटर ट्रेन पर आस

By: Suresh Hemnani

Published On:
Jul, 11 2019 05:37 PM IST

 
  • -पांच दिन बाद गांवों में टैंकरों से जाएगा पानी
    -शहरों में 96 घंटे के अंतराल से होगी जलापूर्ति
    -जलदाय विभाग के अधिकारियों ने तैयार की योजना
    -अतिरिक्त मुख्य अभियंता हर तीन दिन में करेंगे समीक्षा

पाली। इन्द्रदेव की बेरुखी के कारण रसातल की ओर से बढ़ रहे जवाई बांध के लाइव स्टोरेज में अब महज चार-पांच दिन का पानी शेष रह गया है। इधर, बरसात के कोई आसार नहीं दिखने से जलदाय विभाग के अधिकारियों ने पानी की व्यवस्था को लेकर माथापच्ची शुरू कर दी है, लेकिन वे भी दुआ सिर्फ यह कर रहे हैं कि बरसात हो जाए और संकट टल जाए। इस महाजल संकट से निपटने को लेकर जलदाय विभाग के अधिकारियों ने अतिरिक्त मुख्य अभियंता नीरज माथुर के साथ प्लान तैयार किया। इसके तहत 15 जुलाई तक बरसात नहीं होने पर गांवों में पाइप के माध्यम से जलापूर्ति बंद करनी होगी। वहां टैंकरों से पानी भेजा जाएगा। जबकि जवाई पर निर्भर 9 शहरों में 96 घंटे के अंतराल से जलापूर्ति करना तय किया गया।

अभी पैसा नहीं आया और गहराता जा रहा संकट
पाली शहर में आवश्यकता का पानी पहुंचाने को लेकर जलदाय विभाग ने जोधपुर से ट्रेन के माध्यम से पानी लाने की योजना तैयार की। इसके लिए 13 करोड़ रुपए की जरूरत है। इसे मंजूरी देने के लिए जलदाय मंत्री ने हस्ताक्षर कर दिए है, लेकिन फाइल वित्त विभाग में अटकी हुई है। जबकि हमारे पास अब महज पांच दिन का ही पानी शेष और ट्रेन आने की स्थित में पाली के में हौदियों की सफाई के अलावा जोधपुर के भगत की कोठी पर वैगन भरवाने की तैयारी भी करनी है। जो बजट के अभाव में पूरी नहीं सकती।

2-3 दिन में लगा देंगे पम्प
जवाई के लाइव स्टोरेज में बुधवार को महज 60 एमसीएफटी पानी शेष था। इसके बाद 600 एमसीएफटी पानी डेड स्टोरेज का है। जलदाय विभाग दो-तीन दिन के भीतर डेड स्टोरेज का पानी पम्प करने के लिए पम्प लगा देगा। इसके लिए वहां तक जाने के साथ अन्य तैयारियां पूरी कर ली गई है। जवाई से डेड स्टोरेज का पानी पम्प करने पर भी जवाई बांध से महज 14 एमएलडी पानी ही मिलेगा। जबकि पाली शहर को कम से कम 24 एमएलडी पानी की जरूरत होगी।

हर तीन दिन में होगी समीक्षा
जवाई बांध में पानी के लगातार कम होने के कारण जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता के साथ अब हर तीन दिन में समीक्षा बैठक होगी। इसमें पानी की स्थिति देखने के बाद जलापूर्ति को लेकर मंथन किया जाएगा। ट्रेन के लिए राशि एक-दो दिन में मिल जाएगी। -दिनेश पुरोहित, अधीक्षण अभियंता, जलदाय विभाग, पाली

Published On:
Jul, 11 2019 05:37 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।