VIDEO : दो माह से रुकी थी गरीबों के बच्चों की छात्रवृत्ति, ट्रेप हुए तो रात को ही जमा हो गई राशि

By: Suresh Hemnani

Published On:
Jul, 11 2019 01:06 PM IST

 
  • - हाल-ए-श्रम विभाग
    - लगातार शिकायतें, कोई कार्रवाई नहीं

पाली। श्रम विभाग में सरकारी योजनाओं का लाभ गरीबों को समय पर नहीं मिलता, गरीबों को चक्कर लगाने पड़ते, इस बीच ही एक दिन पूर्व दो श्रम निरीक्षकों के एसीबी के हाथों ट्रेप होने के बाद अचानक गरीबों के बच्चों की छात्रवृत्ति की रुकी हुई रकम रात को ही उनके खातों में जमा हो गई। इससे यह उजागर हो रहा है कि अधिकारी यह राशि जानबूझकर रोके हुए थे, एसीबी के डर के बाद यह राशि रातों-रात जमा करवा दी गई। श्रम विभाग की शिकायतें कम नहीं हो रही है। श्रमिक लगातार अधिकारियों पर परेशान करने का आरोप लगा रहे हैं।

कक्षा छह से डिप्लोमा तक की मिलती है छात्रवृत्ति
जानकारों की माने तो श्रम विभाग के मार्फत सरकार की ओर से निर्माण श्रमिक शिक्षा व कौशल विकास योजना के तहत श्रमिकों के बच्चों को कक्षा छह से डिप्लोमा करने तक छात्रवृत्ति दी जाती है। यह राशि छह हजार से पन्द्रह हजार से अधिक होती है। लेकिन श्रमिकों के बच्चों की यह छात्रवृत्ति दस मई को जारी कर दी गई थी, लेकिन अधिकारियों ने बच्चों व उनके परिजनों के खातों में यह राशि जमा नहीं करवाई। जो परिजन या श्रमिक अधिकारियों के कहे अनुसार चलते, उन्हें राशि मिल जाती। इस राशि को जारी करने में भ्रष्टाचार की शिकायतें पूर्व में भी जिला कलक्टर के पास पहुंची थी।

एसीबी की कार्रवाई के बाद हडक़ंप
जानकारों की माने तो एसीबी की कार्रवाई के बाद विभाग में हडक़ंप मच गया। श्रमिकों के रुके हुए काम बिना किसी परेशानी से होने लगे हैं, रातोंरात श्रमिकों के बच्चों की छात्रवृत्ति जारी करना इसका उदाहरण है। इधर, एसीबी की कार्रवाई के बाद विभाग के अधिकारियों के मोबाइल बंद है।

दोनों श्रम निरीक्षकों की जमानत
एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कैलाश जुगतावत के अनुसार एसीबी ने श्रम निरीक्षक दुर्गाराम व योधेश चौहान को रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार किया था। उन्हें बुधवार को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जमानत मिल गई।

Published On:
Jul, 11 2019 01:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।