नाबालिग लड़की की हत्या से पाकिस्तान में उबाल, पुलिस और नेताओं की सांठगांठ से लोगों में रोष

By: Siddharth Priyadarshi

Updated On: Apr, 02 2019 01:41 PM IST

    • पाकिस्तान में नाबालिग लड़की की हत्या से आक्रोश
    • घरेलू नौकर के रूप में काम करती थी मृत उजमा बीबी
    • पाकिस्तान में घरेलू नौकरों की दशा बेहद खस्ताहाल

इस्लामाबाद। एक नाबालिग लड़की की हत्या से पाकिस्तान के कई शहरों में उबाल है। लाहौर की इस घटना के बाद नेताओं और पुलिस की मिलीभगत से लोगों में काफी नाराजगी है। 16 वर्षीय घरेलू नौकरानी नौकर उज़मा बीबी का सिर कटा शरीर एक नहर में पाया गया।उसके बाद महिला के अमीर नियोक्ता पर लड़की की हत्या का आरोप लगाया गया। पुलिस ने कहा है कि रसोई के बर्तन से सिर पर वार करने के बाद लड़की की मौत हो गई। यह ताजा मामला पाकिस्तान में घरेलू कामगारों खासकर बच्चों के लिए खतरों को उजागर करता है।

नासा ने भारत के 'मिशन शक्ति' को बताया 'भयानक', इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर मंडरा रहा है बड़ा खतरा

क्या है मामला

उजमा नामक लड़की जनवरी में मारी गई थी। मारे जाने के आठ महीने पहले से वह लाहौर में एक डॉक्टर के परिवार के लिए काम कर रही थी। उसके मौत के बाद पुलिस ने उसकी नियोक्ता और दो अन्य महिलाओं को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। उजमा के व्यापिता मुहम्मद रियाज ने एक मीडिया एजेंसी से बात करते हुए कहा, "मैं हार नहीं मानूंगा। मैं मौत को तरजीह देता हूं, लेकिन मैं अपराधियों को जाने नहीं दूंगा।" बताया जा रहा हैं कि किशोरी ने सिर्फ 4,000 रुपये (28 डॉलर) प्रति माह कमाए। इस दुखद कहानी ने सोशल मीडिया पर एक बड़े अभियान को जन्म दिया। #JusticeforUzma हैशटैग के साथ कई लोगों ने उसे इंसाफ दिलाने के लिए व्यापक अभियान छेड़ा हुआ है। सैद्धांतिक रूप से पाकिस्तान में 15 साल से कम उम्र के किसी भी किशोर को नौकरी देना गैरकानूनी है, लेकिन इसका पालन नहीं होता है। आपको बता दें कि उजमा की हत्या का विवरण एक लोकप्रिय टीवी शो के दौरान सनसनीखेज रूप से सामने आया था।

सीजफायर तोड़ना पाकिस्तान को पड़ा भारी, भारत की जवाबी फायरिंग में तीन जवानों की मौत

पाकिस्तान में बेहद खराब है कामगारों की हालत

पाकिस्तान में घरेलू कामगारों की हालत बेहद खराब है। घरेलू कामगार यूनियन के महासचिव अरूमा शहजाद ने कहा, "माता-पिता अक्सर अपने बच्चों को गरीबी से बाहर निकालने का एक तरीका मानते हैं। लेकिन घरेलू कामगार अक्सर शोषण, हिंसा और यौन शोषण का सामना करते हैं। पाकिस्तान की पितृसत्तात्मक संस्कृति, अपनी कठोर सामाजिक वर्ग संरचना के साथ अक्सर उन्हें आवाज उठाने से रोकती है।उजमा का मामला नाबालिगों के प्रति की बढ़ती घटनाओं में नवीनतम है। बता दें कि इससे पहले 2016 में एक पाकिस्तानी जज और उनकी पत्नी को उनकी 10 साल की नौकरानी को प्रताड़ित करने के लिए जेल में डाल दिया गया था। 2017 में एक प्रसिद्ध टीवी प्रस्तोता पर अपनी किशोरी नौकरानी को जबरन हिरासत में रखने का आरोप लगाया गया था।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Published On:
Apr, 02 2019 01:41 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।