पाकिस्तान: जेलों में बंद हैं कई 'कुलभूषण', रिहाई में रोड़े अटकाती हैं पाक सरकारें

By: Anil Kumar

Updated On: Jul, 19 2019 11:18 AM IST

    • Kulbhushan Jadhav मामले में ICJ ने पाकिस्तान को काउंसलर एक्सेस देने को कहा है
    • पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह की मौत 2013 में मौत हो गई थी

इस्लामाबाद। भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में बुधवार को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ऑफ जस्टिस ( International Court of Justice ) में सुनवाई हुई। ICJ ने अपने फैसले में पाकिस्तान को फटकार लगाई और जाधव की फांसी पर रोक लगाते हुए कॉन्सुलर एक्सेस देने का आदेश दिया।

इसके अलावा पाकिस्तान से यह भी कहा कि वह सैन्य अदालत की ओर से जाधव को सुनाए गए फैसले पर पुनर्विचार करे। हालांकि ICJ ने भारत की भी कुछ मांगों को ठुकरा दिया, जिसमें जाधव की तत्काल रिहाई का आदेश देने का मांग सबसे महत्वपूर्ण था।

इन सबके बीच अब सवाल उठता है कि पाकिस्तान क्या करेगा? क्या पाकिस्तान ICJ के फैसले को मानेगा? क्या पाकिस्तान जाधव को काउंसलर एक्सेस देगा? पाकिस्तान में जाधव किस हालत में है? क्योंकि इस तरह के मामले में पाकिस्तान का ट्रैक रिकॉर्ड ठीक नहीं है।

ऐसा इसलिए है कि पाकिस्तान की जेलों में सिर्फ अकेले कुलभूषण जाधव झूठे आरोपों में बंद नहीं है बल्कि ऐसे कई भारतीय हैं जो पाकिस्तान की झूठ और साजिश के तहत वर्षों से वहां की जेलों में बंद हैं और न्याय की गुहार लगा रहे हैं।

कुलभूषण जाधव मामला: जानिए ICJ के फैसले से जुड़ी ये बड़ी बातें

कई ऐसे भी हैं जिनके बारे में तो कुछ भी पता नहीं है कि वे जिन्दा भी हैं या नहीं। क्योंकि इससे पहले भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह के साथ पाकिस्तान ने क्या किया था यह पूरी दुनिया को मालूम है। इसलिए कुलभूषण मामले में पाकिस्तान ICJ के आदेशों को मानेगा, इसपर संदेह है। फिलहाल पाकिस्तान ने आईसीजे के फैसले को मानते हुए कुलभूषण को कॉन्सुलर एक्सेस दने की मांग स्वीकार कर चुका है।

पाक की जेलों में बंद हैं कई भारतीय

पाकिस्तान की जेलों में कई भारतीय बंद हैं। केंद्र सरकार के आंकड़ों को मानें तो 273 भारतीय नागरिक पाक के विभिन्न जेलों में बंद हैं। इसमें से 64 आम नागरिक (सिविलियन) हैं, जबकि 209 मछुआरे हैं।

पाकिस्तान ने 1 जुलाई 2019 को इस बात की पुष्टि की थी कि उसकी जेलों में भारत के 52 सिविलियन और 209 मछुआरे कैद हैं।

सरबजीत सिंह

सरबजीत पर पाकिस्तान की खुली थी पोल

भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह मामले पर पाकिस्तान की पोल खुल गई थी। गलती से सीमा पार कर पाकिस्तान सीमा में घुसने वाले सरबजीत पर गंभीर आरोप लगाए गए थे। पाकिस्तान ने सरबजीत पर आतंकवाद के झूठे इल्जाम लगाकर जेल भेज दिया था। बता दें कि 1990 में पंजाब से पाकिस्तान की सीमा में घुस गए थे।

पाकिस्तान की कोर्ट ने सरबजीत पर बम धमाकों के आरोप लगाकर मौत की सजा सुनाई थी। इसके बाद वर्षों तक पाकिस्तान की जेल में बंद रखा गया। इसके बाद सरबजीत की ओर से कई बार दया की याचिका दायर की गई लेकिन हर बार इसे टाल दिया गया और अंत में 26 अप्रैल 2013 को पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में सरबजीत की हत्या कर दी गई।

ICJ के इन 16 जजों ने किया कुलभूषण जाधव की किस्मत का फैसला

सरबजीत के अलावा मुंबई के सॉफ्टवेयर इंजीनियर हामिद अंसारी पर भी पाकिस्तान ने आतंकवाद के झूठे आरोप लगाकर जेल में बंद कर दिया गया था।

हामिद अपनी एक महिला दोस्त के कारण पाकिस्तान पहुंच गए थे। हालांकि हामिद की किस्मत अच्छी थी कि वह भारत की कोशिशों के कारण बच गए और पिछले साल रिहा होकर वतन वापसी भी कर ली। हामिद को गिरफ्तार कर 6 साल तक पाक की जेल में रखा गया था। हामिद पर भी जाधव की तरह जासूसी का आरोप लगाया गया था।

बीते पांच साल में 2110 कैदियों की हुई रिहाई

पाकिस्तान की जेल में बंद सैंकड़ों भारतीय की रिहाई के लिए भारत सरकार ने कई कदम उठाए हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल (2014-19) में पाकिस्तान की जेलों से 2110 कैदियों की रिहाई हुई है।

बीते महीने 11 जुलाई तक पाकिस्तान ने 355 भारतीय मछुआरों और 7 सिविलियन कैदियों को रिहा किया था।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Published On:
Jul, 19 2019 07:17 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।