विश्व चैम्पियनशिप में दो पदक जीतने वाले बजरंग की नज़रें सिर्फ ओलम्पिक पदक पर

By Siddharth Rai

|

22 Jan 2019, 09:44 AM IST

अन्य खेल

नई दिल्ली। सुशील कुमार और योग्श्वर दत्त की छावं से बाहर निकलते हुए बजरंग पूनिया ने कुश्ती में अपनी एक अलग पहचान बनाई है और अब विश्व चैम्पियनशिप में दो पदक जीतने वाले इस भारतीय पहलवान की नजरों में सिर्फ ओलम्पिक पदक की चाहत है। बजरंग, ओलम्पिक में पदक जीतने को लेकर आत्मविश्वास से भरे हैं। वह अगले साल टोक्यो में होने वाले ओलम्पिक खेलों में पदक पर नजरें जमाए बैठे हैं।

इस समय 65 किलोग्राम भारवर्ग में दुनिया के नंबर-1 पहलवान बजरंग का बीता साल शानदार रहा। उन्होंने राष्ट्रमंडल तथा एशियाई खेलों में पदक जीते। साथ ही विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक भी अपने नाम किए। इस समय प्रो रेसलिंग लीग (पीडब्ल्यूएल) के चौथे सीजन में हिस्सा ले रहे बजरंग ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि उनकी एक ही इच्छा है वो है देश के लिए ओलम्पिक पदक जीतना और अपने आदर्श योगेश्वर के पदचिन्हों पर चलना।

बजरंग ने कहा, "बीते सीजन में मेरे प्रदर्शन और मेरी फॉर्म तथा मेरी ट्रेनिंग को देखते हुए मैं यह आत्मविश्वास से कह सकता हूं कि मेरी 2020 की टोक्यो ओलम्पिक की तैयारी सही रास्ते पर चल रही है।" बजरंग ने हालांकि कहा कि इस समय उनका ध्यान विश्व चैम्पियनशिप पर है जो कि ओलम्पिक का टिकट हासिल करने के रास्ता भी है।

पीडब्ल्यूएल में मौजूदा विजेता पंजाब रॉयल्स के लिए खेल रहे बजरंग ने कहा, "टोक्यो ओलम्पिक से पहले 2019 में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप सबसे बड़ा और चुनौतीपूर्ण टूर्नामेंट है। यह ओलम्पिक क्वालीफायर भी है। इसलिए मेरा पूरा ध्यान इस समय कजाकिस्तान में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप पर है।"

उन्होंने कहा, "इसके बाद एशियन चैम्पियनशिप है। इन दोनों के अलावा कुछ दोस्ताना टूर्नामेंट है जिन्हें मेरे प्रशिक्षकों ने मेरे लिए तैयार किया है।" बजरंग ने पीडब्ल्यूएल की तारीफ की और कहा कि इससे भारतीय पहलवानों को अपने खेल के स्तर को सुधारने का मौका मिला है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।