बिना पैसे की इन दवाओं के जरिए ठीक हुआ कानपुर का पहला कोरोना मरीज

Patrika 1586203596

कानपुर। कोरोना वायरस से संक्रमित कानपुर का पहला मरीज पूरी तरह से ठीक हो गए। उर्सला अस्पताल में 14 दिनों तक डाॅक्टरो ंने 70 साल के बुजर्ग को एंटी वायरल दवाओं दीं, जो कारगर साबित हुई। सीएमओ, डाॅक्टर व नर्सो ने तालियां बजाकर उनकी हौसलाफजाई की तो बदले में बुजुर्ग ने हाथ जोडकर सभी को धन्यवाद दिया। सीएमओ ने खुद की गाड़ी से उन्हें घर पर भिलवाया।

एंटी वायरल दवाएं दे
बुजुर्ग का इलाज कर रहे उर्सला के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) डॉक्टर शैलेंद्र तिवारी ने बताया कि जब उन्हें अस्पताल में लाया गया ळाा उस समय उनके फेफड़े ठीक काम कर रहे थे। चेस्ट क्लियर था। उम्र के हिसाब से हार्ट, किडनी ठीक थे। उन्हें ऐसी स्थिति की गाइड लाइन के अनुसार एंटी वायरल दवाएं देने से ही काम चल गया। इसके अलावा कुछ एंटीबायोटिक दवाएं भी देनी पड़ीं, पर इंजेक्शन की जरूरत नहीं पड़ी। मरीज ने भी सहयोग किया और समय से दवाइयां खाई।

अमेरिका से आए थे कानपुर
18 मार्च को यूएस से बुजुर्ग दंपति समेत 5 लोग कानपुर के एनआरआई सिटी पहुंचे। स्थानीय लोगों की सूचना पर 23 मार्च को स्वास्थ्य विभाग के साथ पुलिस मौके पर पहुंची और सभी को अस्पताल लेकर जांच के लिए सैंपल लखनऊ भेजा। पांच में चार की रिपोर्ट निगेटिव आई, वहीं 70 साल के बुजुर्ग कोरोना पाॅजीटिव पाए गए। उन्हें कोविड-19 वार्ड में रखा गया। पिछले 14 दिनों तक डाॅक्टरों की टीम ने बुजुर्ग को इलाज किया। सोमवार को उनकी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद बुजुर्ग को घर भिलवा दिया गया। जहां वह अभी अगले 14 दिनों तक घर में क्वारंटाइन रहें।

ये थे लक्षण
डाॅक्टर के मुताबिक कोरोना मरीज को खांसी, तेज बुखार के साथ ही शरीर में दर्द था। कुछ दिन के बाद जुकाम हो गया। बीमार को खांसी, जुकाम और बुखार की दवाईयां दी गई और उन्होंने परहेज के साथ हमारा सहयोग किया। डाॅक्टर के मुताबिक वह खाली समय में किताबें, अखबार पढ़ने के साथ ही मोबाइल के माध्यम से घर, परिवार से बातें करते रहते थे। लगातार दो बार उनकी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें घर भेज दिया गया।

तली बजाकर किया स्वागत
सीएमओ अशोक शुक्ला समेत सभी डाक्टरो और नर्सो ने लाइन से सोशल डिस्टेंस बनाते हुए जमकर तालियां बजाकर इनका स्वागत किया। सीएमओ ने इनको बधाई देते हुए कहा की दादा जी शहर के पहले पेसेंट थे जिनको हमारे डाक्टरों और नर्सो ने कड़ी मेहनत करके ठीक किया है। उन्हें सकुशल दिया गया है। बुजुर्ग ने बताया कि डाॅक्टरों के चलते उन्हें दूसरा जीवनदान मिला है।

तो आप भी हो सकते हैं ठीक
कोरोना महामारी से ठीक हुए बुजुर्ग ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर किसी को इस महामारी के लक्षण दिखें तो तत्काल डाॅक्टर के पास जाएं। अपनी जांच कराएं और यदि रिपोर्ट पाॅजीटिव आती है तो इलाज करवाएं। मेरी उम्र 70 साल की है और मैं पूरी तरह से स्वस्थ्य हूं। बुजुर्ग ने जमात के लोगों से कहा कि आप छिपे नहीं। डाॅक्टरों के अनुसार दवाएं खाएं और उनके आदेश का पालन करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो कोरोना पर जीत सौ फीसदी तय हैं।