गायों से प्रेम में इतना रमा मुस्लिम युवक कि बीबी बच्चों तक को भूल गया, पढ़े पूरी कहानी

Religion and Spirituality

मुन्ना का कहना है कि उसकी जिंदगी पूरी तरह से गायों के बीच ऐसी रम चुकी है

गोमांस को लेकर देश में राजनीति के गलियारों से लेकर गली कूचों तक छिडी बहस के बीच उत्तर प्रदेश के इटावा में एक मुस्लिम युवक का गायों के प्रति अगाध प्रेम आसपास के क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। मूल रूप से कानपुर के अमरोहदा के रहने वाले आफक अली उर्फ मुन्ना के पास 10 गाय हैं जिसे वह अपने बीबी बच्चों से भी ज्यादा प्यार करता है। गाय के प्रति अगाध प्रेम के चलते उसकी बीबी ही उसको छोड कर चली गई।



इटावा शहर मे बाइस ख्बाजा के पास जंगल में अपना बसेरा बना यह युवक सिर्फ गायों और उनके बछडो के साथ ही अपनी जिंदगी बसर कर रहा है। मुन्ना का कहना है कि उसकी जिंदगी पूरी तरह से गायों के बीच ऐसी रम चुकी है कि अब उसको कुछ भी अच्छा नही लगता। करीब 16 साल पहले उसकी शादी हुई थी लेकिन बीबी को गाय प्रेम पंसद नही आया। दोनों में गाय प्रेम को लेकर तकरार हुई और बीबी ने मुन्ना को छोड दिया। तब से मुन्ना जंगली माहौल मे गाय का प्रेमी बन गया है।

मुन्ना के पास इस समय करीब 10 गाय हैं जिनसे उसकी जिंदगी कट रही है। उसने बताया कि वह गायों के ही बीच सो जाया करता है। अपने गाय प्रेमी होने का सबूत वो इस बात से देने से नहीं चूकता कि बचपन में भले ही उसने कभी मांस का सेवन किया हो लेकिन जब से उसने होश संभाला है तब से वो पूरी तरह से शाकाहारी ही है।

मुन्ना ने कहा "मैं 13 साल की उम्र मे इटावा आया था तब से यहीं का होकर रह गया। मुझे बचपन से गायों को पालने का शौक रहा। 15 साल की उम्र से गाय पालन का काम शुरू कर दिया था। अपना शौक पूरा करने के लिए 15 साल की उम्र में गाय को खरीद लिया। करीब 15 साल पहले मेरी शादी इटावा के बकेवर की रहने वाली अफरोज जहॉ से हुई लेकिन करीब तीन साल साथ रहने के बाद बीबी मुझे छोड कर चली गई क्योंकि बीबी को गाय प्रेम पंसद नहीं आया।"

युवक ने कहा कि पहले बीबी ने गाय बेचने को कहा लेकिन नहीं मानने पर वह साथ छोड कर चली गई। गायों की देखभाल करने के इरादे से मुन्ना सुबह तडके उठते हैं और गायों का गोबर उठाते है, चारा सानी करते हैं फिर दूध निकाल करके बेचते है, जिससे गायों के चारे का बंदोबस्त तो हो ही जाता है, उसके खाने पीने का भी इंतजाम हो जाता है। उसने बताया कि गाय को बेचना और काटना उसको कतई पंसद नही है।

वह कभी भी गाय या बछडा नही छोडते सिर्फ बडे होकर सांड होने पर उसको छोड देते हैं। मुन्ना बताता है कि उसके परिचित तमाम लोग और करीबी कहते है कि मुन्ना कहां गायों के चक्कर में पड गए हो इनको छोड दो और परिवार को पालो तो ज्यादा बेहतर होगा।

Web Title "Muslim man loves cow, left wife for cow "

Rajasthan Patrika Live TV