पनीरसेल्वम कैम्प ने 'CM' और शशिकला को किया AIADMK से बाहर

Political

शशिकला समेत उनके भतीजे, टीवी दिनकरण और एस वेंकटेश के रिश्तेदारों की भी पार्टी सदस्यता ख़त्म कर दी गई है। 


चेन्नई. तमिलनाडु में AIADMK के ई पलानीस्वामी के शपथ लेने के एक दिन बाद पनीरसेल्वम खेमा ने शशिकला को पार्टी से बाहर कर दिया है। मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी, शशिकला समेत उनके भतीजे, टीवी दिनकरण और एस वेंकटेश के रिश्तेदारों की भी पार्टी सदस्यता ख़त्म कर दी गई है। यह कार्रवाई पनीरसेल्वम गुट के प्रेसेडीयम चेयरमैन ई मधुसूदन ने किया। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से शशिकला और उनके रिश्तों से किसी भी तरह के संबंध रखने से मना किया है। इससे पहले शशिकला ने मधुसूदन और पनीरसेल्वम समेत उन नेताओं को पार्टी से बाहर कर दिया था जिन्होंने उनके खिलाफ बगावत की थी। 

दोनों गुट कर रहे हैं असली होने का दावा 

AIADMK के दोनों गुट असली पार्टी होने का दावा कर रहे हैं। दोनों गुट एक-दूसरे पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाते हुए कार्रवाई भी कर रहे हैं। पनीरसेल्वम गुट ने निर्वाचन आयोग को चिट्ठी भी लिखा है। दोनों गुटों ने पार्टी की लोकल इकाइयों के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर भी बर्खास्तगी की कार्रवाई की है।

धुसूदन को बाहर करने का अधिकार नहीं 

शशिकला खेमा ने कहा है कि पार्टी के नियमों के मुताबिक़ उनके (मधुसूदन) पास जनरल सेक्रेटरी (शशिकला) को हटाने का कोई अधिकार नहीं है। इस बीच ओ पनीरसेल्वम ने शुक्रवार को तमिलनाडु पुलिस को एक चिट्ठी लिखा। इसमें उन्होंने अनुरोध किया कि मौजूदा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे जयललिता के समर्थकों को गिरफ्तार न किया जाए। 


एक हफ्ते पहले शशिकला ने मधुसूदन को हटा दिया था 

करीब एक हफ्ते पहले शशिकला ने पनीरसेल्वम का समर्थन करने की वजह से मधुसूदन को पार्टी प्रेसिडियम  चेयरमैन की पोस्ट से हटा दिया था। उनकी जगह केए सनगोत्तैयन को प्रेसिडियम  चेयरमैन बनाया गया था। शशिकला ने मधुसूदन को बाहर करते हुए आरोप लगाया था कि उन्होंने पार्टी को तोड़ने की कोशिश की।

सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद जेल में हैं शशिकला 

सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद शशिकला को कर्नाटक के बंगलुरू जेल में रखा गया है। इसी हफ्ते सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया था। इसमें कोर्ट ने उन्हें 4 साल की सजा सुनाई थी। 

जेल जाने से पहले शशिकला ने पलानीस्वामी को बनवाया CM 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जेल जाने से पहले शशिकला ने अपने वफादार पलानीस्वामी को विधायक दल का नेता चुनवा दिया। राज्यपाल के न्यौते पर उन्होंने गुरुवारको राज्य के 29वें सीएम् के रूपमें शपथ ली। उन्हें 15 दिनों के अंदर विधानसभा में अपना बहुमत साबित करना होगा। 

पनीरसेल्वम की बगावत के बाद पार्टी हुई दो फाड़ 

पनीरसेल्वम की बगावत के बाद AIADMK दो फाड़ हो गई। दरअसल, जयललिता के निधन के बाद मुख्यमंत्री बनाए गए पनीरसेल्वम ने शशिकला के लिए सीएम पोस्ट से इस्तीफा दे दिया। बाद में उन्होंने कहा कि उनसे जबरदस्ती इस्तीफ़ा लिया गया। उन्होंने शशिकला पर कई गंभीर आरोप भी लगाए। इसके बाद पार्टी दो फाड़ हो गई। पार्टी के 12-15 सांसदों और वरिष्ठ नेताओं ने पनीरसेल्वम का समर्थन किया। कुछ विधायक भी उनके साथ आए। हालांकि पार्टी के करीब 120 विधायकों ने शशिकला को लिखित समर्थन का हलफनाम दिया। 

AIADMK के दोनों धड़े कर रहे थे सरकार बनाने का दावा 

तमिलनाडु में AIADMK के दोनों धड़े सरकार बनाने का दावा कर रहे थे। पनीरसेल्वम ने कहा कि उनके पास पार्टी के विधायकों का पर्याप्त समर्थन है। हालांकि पिछले हफ्ते बुधवार से ही शशिकला खेमा ने अपने समर्थक विधायकों को गोल्डन बे रेसॉर्ट में पहुंचा दिया। दूसरे खेमे ने विधायकों के बंधक होने का आरोप लगाया। मद्रास हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद विधायकों ने लिखित दिया कि उन्हें जबरदस्ती नहीं रखा गया है। इसके बाद राज्यपाल विद्यासागर राव ने शशिकला खेमा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था। 

Web Title "Panneerselvam camp dismisses Sasikala from AIADMK "