सारे काम छोड़कर सुबह से लगाते हैं नल में कतार 

sudhir shrivas

Publish: Apr, 20 2017 12:31:00 (IST)

katni

पांच सार्वजनिक नलों के भरोसे प्रेमनगर काली मंदिर की 300 घरों की आबादी, पाइप लाइन डाली, अभी तक नहीं हुए कनेक्शन

कटनी। रात को सोते समय सुबह जल्दी जागने की चिंता, उठते ही सारे काम छोड़कर डिब्बा लेकर नलों में कतार लगाने पहुंचना और पानी मिल जाने के बाद साइकिलों से उसे घर पहुंचना। सुबह से ये रोजाना की दिनचर्या है नगर निगम के वार्ड नवनिर्मित वार्ड 18 के प्रेमनगर के काली मंदिर क्षेत्र के रहवासियों की। यहां पर एक बोरिंग से पांच सार्वजनिक नल लगाए गए हैं और उनके भरोसे 300 घरों की आबादी प्यास बुझाती है। 

कॉलोनी में नगर निगम ने पाइप लाइन डाल दी है लेकिन उसे आज तक जोड़ते हुए कनेक्शन नहीं दिए गए हैं। इससे पानी की किल्लत से लोग परेशान हैं।  बस्ती की सुविधा के लिए कॉलोनी में नलकूप का खनन कराया गया था। पाइप लाइन न होने से पिछले वर्ष तक वहां एक ही सार्वजनिक नल लगा दिया गया था, जिसमें पानी के लिए सुबह से मारामारी मचती थी और विवाद होते थे। 

समस्या का स्थाई हल निकालने के स्थान पर नलकूप से ही पांच नल लगा दिए गए हैं लेकिन उसके बाद भी सुबह से लोगों की भीड़ कम नहीं होती है। पानी भरने के बाद कॉलोनी के आखिरी छोर तक बच्चे-बूढ़े साइकिल से पानी ढोकर ले जाते हैं। बस्ती में सुबह एक से डेढ़ घंटे पानी की सप्लाई होती है, जिसके चलते इतनी बड़ी आबादी को पानी मिल पाना कठिन होता है। निवासियों का कहना है कि रोजाना कई घरों को पानी ही नहीं मिल पाता है और वे दिनभर परेशान होते हैं। लोगों ने नगर निगम से शाम को भी एक घंटे सप्लाई कराने की मांग की थी लेकिन उस पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। दूसरी ओर पाइप लाइन से सप्लाई न जोड़े जाने से भी लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। 

इनका कहना है
कॉलोनी में पानी की समस्या है। पाइप लाइन की टेस्टिंग बाकी है और उसके बाद सप्लाई जोड़ी जाएगी। व्यवस्था के लिए एक के स्थान पर पांच सार्वजनिक नल लगवाए गए हैं और दो हैंडपम्प के खनन का प्रस्ताव भी निगम को दिया गया है। 
साक्षी गोपाल साहू, पार्षद

Web Title "Leave all the work and put it in the morning from the queue "