JLF2017: फूहड़ व अश्लील गीतों पर आपत्ति जताएं महिलाएं, उन पर नाचे नहीं...प्रसून जोशी

Dilip chaturvedi

Publish: Jan, 23 2017 12:41:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India

सिंगर या लेखक यह नहीं कह सकते कि हमारे पूर्वजों ने तो डंडे मारे थे, हम तो सिर्फ थप्पड़ ही मार रहे हैं, यह तर्क गलत है...

जयपुर। साहित्य के महाकुंभ 'जयपुर लिट फेस्ट' के संवाद प्रोग्राम के Ideate: Freedom to Dream सेशन में कवि व लेखक प्रसून जोशी ने महिलाओं की दोहरी अवधारणा पर कटाक्ष किए। उन्होंने कहा कि, महिलाओं को जिन गानों पर आपत्ति करनी चाहिए, बर्थडे पार्टी में उन्हीं पर डांस करती हैं। प्रसून आगे बोले कि रैपर कहते हैं पुराने जमाने में भी अश्लील और दोहरे मतलब वाले गाने लिखे गए, आप इस चीज का हवाला देकर इतिहास की गलती नहीं दोहरा सकते। सिंगर या लेखक यह नहीं कह सकते कि हमारे पूर्वजों ने तो डंडे मारे थे, हम तो सिर्फ थप्पड़ ही मार रहे हैं, यह तर्क गलत है। 

फोक म्यूजिक में गाली का इस्तेमाल होता है, जो ऐसा करते हैं गलत करते हैं। प्रसून ने कहा कि ऐसे सिंगर की इज्जत वापस ले लीजिए, जो वाहियात गाने गाते हैं। बच्चे और युवाओं के आदर्श ऐसे लोग बनें जो खोखले न हों, आदर्शों की सफलता मायने रखती है, सफलता कैसी है ये मायने नहीं रखती। बातचीत में जोशी ने विज्ञापनों का बचाव करते हुए कहा विज्ञापन सच्चे होते हैं, क्योंकि वो किसी को बेवकूफ  नहीं बनाते। विज्ञापन साफ  कहते हैं कि वो विज्ञापन हैं। जोशी ने कहा कि तकनीकी लोगों के बीच भेदभाव खत्म कर रही है। जोशी ने कहा कि तकनीकी सूचना को सबको उपलब्ध करा रही है, इसलिए अब इस बात का ज्यादा महत्व है कि सूचना का कौन कैसे इस्तेमाल करता है।

Web Title "JLF2017: Women should oppose on slut and obscene lyrics - Prashun Joshi "

Rajasthan Patrika Live TV