बदलते मौसम में ऐसे करें आंखों की देखभाल

Vikas Gupta

Publish: Jul, 04 2017 08:06:00 (IST)

Beauty

इन दिनों मौसम में बदलाव हो रहा है। इस परिवर्तन के साथ ही आंखों से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आइये जानते हैं आंखों से जुड़ी समस्याओं के बारे में...

इन दिनों मौसम में बदलाव हो रहा है। इस परिवर्तन के साथ ही आंखों से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आइये जानते हैं आंखों से जुड़ी समस्याओं के बारे में...

आदतों को सुधारें
अक्सर सर्दियों में लोग पानी का सेवन कम मात्रा में करते हैं लेकिन सेहत के लिहाज से यह सही नहीं है। इस कारण शरीर में तरल की कमी होने से कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं। शरीर में नमी बनाए रखने के लिए दिन में कम से कम 5 लीटर पानी पीना चाहिए। कम्प्यूटर पर यदि अधिक काम करना पड़ता है तो पॉश्चर सही रखना भी जरूरी है। इसके अलावा काम के वक्त पर्याप्त रोशनी का विशेष खयाल रखें। मोबाइल का प्रयोग लेटकर न करें साथ ही अंधेरे में मोबाइल स्क्रीन किसी भी स्थिति में नहीं देखें। ई-बुक के बजाय सीधे बैठकर पुस्तक पढऩे की आदत डालें।

खुद न बनें डॉक्टर
देखा जाता है कि लोग दुकान पर ही आंखें टेस्ट करवाकर चश्मा बनवा लेते हैं। यह ठीक नहीं है। आंखों का परीक्षण किसी नेत्र विशेषज्ञ से करवाकर ही चश्मा बनवाना चाहिए। चश्मा यदि पहले से लगा हुआ है तो यह ध्यान रखें की उसका नंबर न बढ़े। इसके लिए कुछ सावधानियां बरतना जरूरी हैं जैसे पढऩे-लिखने, टीवी, कम्प्यूटर व मोबाइल का काम करते समय चश्मा लगाकर रखें। इसके अलावा बिना डॉक्टरी सलाह के किसी भी आईड्रॉप का इस्तेमाल न करें। 80 प्रतिशत मामलों में काला-पानी और मोतियाबिंद की यही वजह पायी जाती है जिसका ऑपरेशन ही एक मात्र विकल्प है।

ताकि न हो कोई तकलीफ
आंखों में खिंचाव, थकान या कोई अन्य तकलीफ न हो इसके लिए कम्प्यूटर या मोबाइल पर काम करते समय पलकों को लगातार झपकाते रहें। कम्प्यूटर के मॉनीटर को अधिक समय तक लगातार नहीं देखें बीच-बीच में काम को रोक दें और आंखों को आराम दें। आंखों की सेहत बनाए रखने के लिए बादाम, टमाटर, पालक, गाजर और अंकुरित अनाज आदि को भोजन में शामिल करें।

Web Title "Eye care in changing weather "

Rajasthan Patrika Live TV