परिवारों का विघटन चिंताजनक

Mukesh Sharma

Publish: Mar, 20 2017 10:09:00 (IST)

Bangalore, Karnataka, India

आदिनाथ जैन श्वेताम्बर संघ, चिकपेट द्वारा संचालित आदिनाथ जैन सेवा मंडल की स्वर्ण जयंती रविवार को

बेंगलूरु।आदिनाथ जैन श्वेताम्बर संघ, चिकपेट द्वारा संचालित आदिनाथ जैन सेवा मंडल की स्वर्ण जयंती रविवार को धूमधाम से मनाई गई। गोड़वाड़ भवन में आयोजित समारोह में विजयलब्धिसूरी बालिका मंडल ने नृत्य शानदार प्रस्तुति दी।

मंडल अध्यक्ष देवकुमार के.जैन ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 50 साल से नि:स्वार्थ भाव से मानव सेवा का सफर पूरा करना सेवा मंडल की विकास यात्रा का महत्त्वपूर्ण पड़ाव है। जिन उद्देश्यों के लिए मंडल की स्थापना की गई वह उद्देश्य आज पूरा होता दिख रहा है। संगठन पूरी निष्ठा, लगन और समर्पण के साथ नि:स्वार्थ सेवा कर रहा है। अब मंडल की गरिमा बनाए रखने और उसे इसी पथ पर आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी हमारे कंधों पर है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में पैसा, वैभव, शिक्षा, धार्मिक एवं सामाजिक स्तर पर हमने काफी तरक्की की है, लेकिन इसी के साथ आडम्बर, परिवारों में विघटन, तलाक व अंतर्कलह में वृद्धि होना बेहद चिंताजनक है। बुराइयों को छोडऩा होगा। तभी देश व समाज की सही मायने में तरक्की संभव है।

आदिनाथ जैन श्वेताम्बर संघ के अध्यक्ष उत्तम चंद भंडारी ने सभी का स्वागत किया। सचिव प्रकाश राठौड, सहसचिव गौतम सोलंकी एवं कोषाध्यक्ष शांतिलाल नागोरी ने भी अपने विचार रखे। संघ की ओर से मंडल के पदाधिकारियों व सदस्यों का सम्मान किया गया। इस अवसर पर बाबूलाल पारेख, तेजराज नागोरी, पारस भंडारी, रमेश कर्नावट, अशोक भाई संघवी, कैलाश बंदामुथा सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Web Title "Disruption of families worrisome "