VIDEO: इस मामले में जेल से बाहर आए भीम आर्मी जिलाध्यक्ष ने अपनी रिहाई पर जताई नाखुशी

By: Ashutosh Pathak

Updated On: May, 17 2019 09:19 AM IST

    • भीम आर्मी जिलाध्यक्ष की मिली रिहाई
    • भारत बंद हिंसा के आरोप में जेल में थे बंद
    • दो अप्रैल 2018 को हुआ था आंदोलन

मुजफ्फरनगर। एक साल पहले यानी 2 अप्रैल 2018 को एससी-एसटी आरक्षण मामले में भारत बंद के दौरान देश के कई हिस्सों में भारी बवाल औऱ हिंसा हुई थी। इसी के तहत पश्चिमी यूपी के मुजफ्फरनगर जिले में भी जमकर बवाल और हिंसा हुई थी। जिसके आरोप भीम आर्मी ( bhim army ) के जिला अध्यक्ष को रासुका के तहत जेल भेजा गया था। लेकिन गुरूवार को भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष उपकार बावरा को गुरुवार को मुजफ्फरनगर जेल से रिहा कर दिया गया। हालाकि उन्होंने कहा कि वह अपनी रिहाई से खुश नहीं है।

वहीं जेल से रिहा होने के बाद भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष उपकार बावरा ने दलितों के हितों की रक्षा के लिए आवश्यकता पड़ने पर फिर से आंदोलन करने की बात कही। उन्होंने कहा कि वह अपनी रिहाई से खुश नहीं है, बल्कि हिंसा के आरोपों के चलते जेल में बंद अपने अन्य साथियों की रिहाई के लिए वह हर स्तर पर लड़ाई लड़ेंगे। उपकार बावरा ने कहा कि दलितों के हित में फिर से आवश्यकता पड़ी तो आंदोलन किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अभी यह लड़ाई की शुरुआत है और अभी बहुत कुछ करना बाकी है।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट में संशोधन किए जाने के विरोध में एक साल पहले दो अप्रैल को विभिन्न संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया था। इस आंदोलन में जमकर उपद्रव हुआ और हिंसा भड़की थी। भोपा के गांव गादला निवासी अमरेश की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे। उपद्रव में जमकर आगजनी और तोड़फोड़ हुई थी। उपद्रव और हिंसा के संबंध में शहर के तीनों थानों पर 43 मुकदमे दर्ज कराए गए थे। नई मंडी इंस्पेक्टर हरसरण शर्मा की ओर से दर्ज कराए गए मुकदमे में भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष उपकार बावरा को नामजद कराया गया था। आरपीएफ ने भी उपकार बावरा को नामजद कराया गया था। बाद में उपकार बावरा पर रासुका ( rasuka ) की कार्रवाई की गई थी।

 

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर...


UP Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ा तरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Published On:
May, 17 2019 09:17 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।