भारत ही नहीं पाकिस्तानी भगोड़ों का भी 'स्वर्ग' है लंदन

By: Mohit Saxena

Updated On: Apr, 20 2019 03:19 PM IST

    • 75 करोड़ रुपये के आपार्टमेंट रह रहे थे नीरव मोदी
    • भारतीय बिना किसी डर के आराम की जिंदगी काट रहे
    • ब्रिटेन का कानून भारत और पाकिस्तानीयों के लिए काफी महफूज है

नई दिल्ली। भारतीय ही नहीं पाकिस्तानी भगोड़ों के लिए भी लंदन स्वर्ग जैसा है। ब्रिटेन में रहना और यहां अपने कारोबारा को बढ़ाना दोनों देशों के नागरिकों के लिए आसान माना जाता है। हाल ही में एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय भगोड़े नीरव मोदी के पास लंदन के वेस्ट एंड इलाके में एक 75 करोड़ रुपये का आपार्टमेंट है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नीरव मोदी ने वेस्ट एंड के सोहो में हीरे का नया कारोबार भी शुरू किया। इस व्यापार में उसे काफी लाभ हुआ है। हालांकि अभी वह लंदन की जेल में है। उन पर केस चल रहा है। उन पर पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 13 हजार करोड़ रुपये से अधिक के घोटाले का आरोप है।

ये भी पढ़े: पाकिस्तान : अब्दुल हाफिज बने नए वित्त मंत्री, आर्थिक संकट को देखते हुए पीएम इमरान खान ने किया नियुक्त

भारतीय भगोड़ों में कई अरबपति

इसी तरह कई भारतीय और पाकिस्तानी हैं जो यहां से भाग कर ब्रिटेन में बिना किसी डर के आराम की जिंदगी काट रहे हैं। बैंक धोखाधड़ी में दूसरे मुख्य आरोपी और नीरव मोदी के चाचा मेहुल चौकसी एंटीगुआ और बारबाडोस की नागरिकता ले चुके हैं। वह पीएनबी बैंक घोटाले के सामने आने के बाद बीते साल ही जनवरी में देश छोड़कर भाग गए थे। इसी तरह से लिकर किंग के नाम से मशहूर रहे उद्योगपति विजय माल्या भी लंदन की अदालत में प्रत्यर्पण के ख़िलाफ़ केस लड़ रहे हैं। भागोड़े व्यापारी ललित मोदी भी लंदन में ऐश की जिंदगी जी रहे हैं। उन पर मनी लॉड्रिंग का आरोप है। गौरतलब है कि भारत के साथ पाकिस्तान के भगोड़े भी लंदन को अपनी मनपसंद जगह मानते हैं। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, बेनज़ीर भुट्टो के अलावा कई लोग लंदन में छिपते आए हैं।पाकिस्तान के चर्चित चेहरों में अल्ताफ हुसैन, जो लंदन में रहते हैं। यहीं से वह पाकिस्तान की शक्तिशाली, विवादास्पद MQM पार्टी का नेतृत्व करते हैं। इसके लाखों समर्थक हैं। उन पर पाकिस्तान में हत्या और हिंसा के लिए उकसाने का आरोप है। पूर्व तनाशाह परवेज मुशर्रफ बीते कई सालों से ब्रिटेन में हैं। उन पर पाकिस्तान में देश द्रोह का आरोप है। इसके लिए पाकिस्तान की अदालत में उन्हें पेशी के लिए बुलाया जाता है। मगर वह अब तक एक बार भी पेशी के लिए पाकिस्तान नहीं पहुंचे। वह हर बार नाजुक सेहत का बहाना मार पेशी से बच जाते हैं। इसकी तरह नवाज शरीफ भी तख्तापलट के बाद काफी दिनों तक लंदन में रहे। बूलचितस्तान की आजादी की मुहिम छेड़ने वाले पाकिस्तानी अमीर अहमद सुलेमान दाऊद बीते कई सालों से ब्रिटेन में निर्वासन में रह रहे हैं। वह लगातार भारत और अमेरिका जैसे अन्य मित्र देशों से मदद की गुहार लगा रहे हैं।

ये भी पढ़े: लीबिया संकट: त्रिपोली में रह रहे भारतीयों के लिए MEA ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर, मदद का दिया आश्वासन

क्या है कारण

आखिरकार भारत और पाकिस्तान के भगोड़ों के लिए ब्रिटेन सबसे खास क्यों है। इसकी सबसे बड़ी वजह भारत का ब्रिटेन का उप-निवेश रहना है। ऐसे में वहां की और यहां की क़ानूनी प्रणाली लगभग एक जैसी है। ब्रिटेन और भारत के क़ानूनी जानकार दोनों देशों के क़ानूनों को बहुत अच्छे से जानते हैं, जिससे भागकर गए शख़्स को बहुत लाभ होता है।क़ानूनी वजहों के अलावा ब्रिटेन में भारत और पाकिस्तान के लोगों का वहां पहले से होना भी एक बड़ी वजह है। इससे इन्हें इसका लाभ मिल जाता है। यहां पर भारत और पाकिस्तान के लोगों की बड़ी तादात है। ऐसे इनके लिए यहां पर गुजर बसर करना आसान हो जाता है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

Published On:
Apr, 20 2019 07:43 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।