कृत्रिम अंगों के साथ अमरीका की हेली भरेंगी अंतरिक्ष की उड़ान

वॉशिंगटन। कोई बीमारी इंसान को लंबी उड़ान भरने से नहीं रोक सकती। बोन कैंसर को मात देने वाली 29 वर्षीय डॉक्टर हेली आर्सनेउ जल्द पहली निजी स्पेसएक्स अतंरिक्ष यात्रा पर जाने वाली हैं। 10 साल की उम्र में हेली ने अमरीका के मेम्फिस शहर के सेंट जूड चिल्ड्रन्स रिसर्च हॉस्पिटल में घुटने को बदलने व बायीं जांघ में टाइटेनियम रॉड डलवाने के लिए सर्जरी करवाई थी। वह इसी अस्पताल में डॉक्टर हैं। अंतरिक्ष में कृत्रिम अंग के साथ पहुंचने वाली वह पहली इंसान होंगी।

सेंट जूड अस्पताल के लिए 200 मिलियन डॉलर फंड जुटाने के भाग रूप में फरवरी की शुरुआत में उद्यमी जेरेड इसाकमैन ने इस यात्रा की घोषणा की थी। आधी राशि इसाकमैन खुद दान करेंगे। चार में से एक सीट उन्होंने अस्पताल के नाम कर दी। अस्पताल ने इसके लिए हेली का चयन किया। मिशन में हेली चिकित्सा अधिकारी का काम संभालेगी। मार्च में अन्य दो प्रतिभागियों के नाम की घोषणा होगी। अस्पताल ने बताया कि अब तक 9 मिलियन डॉलर जमा हो चुके हैं।

कैंसर से लड़ाई ने किया तैयार-
हेली ने कहा कि कैंसर से मेरी लड़ाई ने ही मुझे यात्रा के लिए तैयार किया। मैं कैंसर मरीजों को बताना चाहती हूं कि आसमान की कोई सीमा नहीं है। कैंसर से लडऩे वाले लोग अंतरिक्ष में भी छाप छोड़ सकते हैं। हेली लंगड़ा कर चलती हैं। उनके पैरों में दर्द रहता है।

अक्टूबर में कैनेडी सेंटर से लॉन्च होगा मिशन-
हेली के पास यात्रा के चयन की जानकारी देने के लिए फोन आया तो उन्होंने यात्रा से पहले लुइसियाना जाकर अपनी मां से मिलने की इच्छा जाहिर की। हेली के पिता 2018 में किडनी कैंसर से जान गंवा चुके हैं। मिशन अक्टूबर में नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर में लॉन्च होगा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।