मोदी सरकार के रुख से डरा विजय माल्‍या, कहा- प्‍लीज पैसे ले लीजिए, कोर्ट के मामले को यहीं खत्‍म कीजिए

By: Dhirendra Kumar Mishra

Updated On:
06 Dec 2018, 03:03:55 PM IST

  • माल्या ने ट्वीट कर बताया है कि मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि मेरे सेटलमेंट के ऑफर का दुबई से हालिया प्रत्यर्पण को कैसे लिंक किया जा सकता है।

नई दिल्ली। अगस्‍ता वेस्‍टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्‍टर घोटाले में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को दुबई से इंडिया प्रत्‍यर्पण कराने में मोदी सरकार को मिली सफता का सीधा असर पर शराब कारोबारी विजय माल्‍या पर दिखा है। इस खबर के बाद से माल्‍या घबराए हुए हैं। उन्‍होंने खुद के मामले को मिशेल के साथ लिंक होने पर सफाई पेश की है। माल्या ने बुधवार को ट्वीट कर बताया है कि मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि मेरे सेटलमेंट के ऑफर और का दुबई से हालिया प्रत्यर्पण को कैसे लिंक किया जा सकता है। मैं जहां भी रहूं बस यही अपील करता हूं कि प्लीज पैसे ले लीजिए। मैं चाहता हूं कि यह किस्सा खत्म हो कि मैंने पैसे चुराए हैं।

भगोड़ा नहीं
बुधवार को भी विजय माल्या ने एक ट्वीट कर कहा था कि वे बैंकों का 100 प्रतिशत मूलधन चुकाने को तैयार हैं। माल्या ने लिखा कि नेता और मीडिया लगातार जोर-जोर से मुझे ऐसा डिफॉल्टर बता रहे हैं जो सरकारी बैंकों का पैसा लेकर भाग गया। लेकिन वैसा नहीं है जैसा कहा जा रहा है।

मिशेल के प्रत्‍यर्पण का असर
आपको बता दें कि ब्रिटेन की अदालत में भगोड़े कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई चल रही है। भारत बैंकों से करीब नौ हजार करोड़ रुपए लेकर भागे माल्या को देश वापस लाने की कोशिश कर रहा है। इस बीच भारत को मंगलवार को अगस्टा वेस्टलैंड डील में कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को दुबई से लाने में सफलता मिली है। इस घटना का सीधा असर माल्‍या पर दिखने लगा है। उम्‍मीद भी यही है कि ब्रिटिश अदालत माल्‍या के प्रर्त्‍यपण की इजाजत दे दे।

Updated On:
06 Dec 2018, 03:03:55 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।