भारतीय वित्त मंत्रालय: क्या है मुख्य काम, कौन बना सबसे अधिक बार मंत्री? जानें यहां

By: Shweta Singh

Published On:
May, 24 2019 07:59 PM IST

  • भारत सरकार के महत्वपूर्ण मंत्रालयों में से एक है, वित्त मंत्रालय।

नई दिल्ली। भारत सरकार के महत्वपूर्ण मंत्रालयों में से एक है, वित्त मंत्रालय। पूरे देश की अर्थव्यवस्था का संचालन इसके ही द्वारा ही किया जाता है। इसके अंतर्गत कराधान, वित्तीय कानून, वित्तीय संस्थानों, पूंजी बाजार, केंद्र तथा राज्यों का वित्त और केंद्रीय बजट से जुड़े मामले की देख-रेख की जाती है। इस विभाग का प्रमुख वित्त मंत्री होता है। अभी तक अरुण जेटली वित्त मंत्री हैं, जो 2014 से मंत्रालय संभाल रहे हैं।

देश का केंद्रीय वित्त मंत्रालय पांच विभागों में बंटा हुआ

वित्त मंत्री राजकोषीय नीति की जिम्मेदारी उठाता है। वित्त मंत्री ही संसद में वार्षिक केंद्रीय बजट पेश करता है। साथ ही देश की अर्थव्यवस्था का मुख्य संचालक होता है। देश का केंद्रीय वित्त मंत्रालय पांच विभागों में बंटा हुआ हैं, इनमें- आर्थिक कार्य, व्यय (Expenditure), राजस्व (Revenue), वित्तीय सेवाएं (Finance Services), विनिवेश (Dis-Investment)। हर विभाग का अपना विशेष कार्य होता है।

आर्थिक कार्य विभाग मुख्य रूप से भारत सरकार की आर्थिक नीतियों की जिम्मेदारी उठाता है। इसके अंतर्गत बजट प्रभाग और विदेश व्यापार जैसे अहम भूमिका निभाई जाती हैं। वहीं, व्यय विभाग केन्द्र सरकार की सार्वजनिक वित्तीय प्रबंधन प्रणाली और राज्यों की वित्तीय स्थिति से संबंधित मामलों पर निगरानी रखने वाला एक नोडल विभाग है। राजस्व विभाग मालिकों द्वारा धारण संपत्ति के कराधान के साथ संबंधित है। जैसे किसी व्यक्ति के पास कोई संपत्ति है, तो उसके जमा किए टैक्स का लेखा-जोखा राजस्व विभाग देखता है। विनिवेश विभाग पहले एक स्वतंत्र मंत्रालय (विनिवेश मंत्रालय) के रूप में स्थापित किया गया। हालांकि मई 2004 में विनिवेश विभाग को वित्त मंत्रालय के एक विभाग में बदल दिया गया।

भारतीय वित्तीय प्रणाली के घटक:-

  • वित्तीय संस्थान
  • वित्तीय बाजार
  • मुद्रा बाजार
  • पूंजी बाजार
  • विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार
  • ऋण बाजार (क्रेडिट मार्केट)

वित्त मंत्रालय से जुड़े कुछ रोचक जानकारियां

- यह मंत्रालय 72 वर्ष पहले 29 अक्टूबर 1946 को स्थापित हुआ था

- इस मंत्रालय में अब तक 26 मंत्रियों ने वित्त मंत्री का पद ग्रहण किया है।

- मोरारजी देसाई के नाम सबसे ज्यादा बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड दर्ज है। उन्होंने आजाद भारत के संसद में अबतक 10 बार बजट पेश किया है, जिनमें से 8 पूरे और 2 अंतरिम बजट है।
- दूसरे नंबर पर पी. चिदंबरम का नाम आता है, जिन्होंने कुल 9 बार संसद बजट पेश किया है।

एक नजर 1947 से अब तक के वित्तमंत्रियों और उनके कार्यकाल पर

क्रमांक वित्त मंत्री का नाम कार्यकाल राजनीतिक दल (गठबंधन)
1. लियाकत अली खान 29 अक्टूबर 1946 - 14 अगस्त 1947 तक ऑल इंडिया मुस्लिम लीग
2. आर. के. शंमुखम चेट्टी 15 अगस्त 1947 - 1949 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
3. जॉन मथाई 1949 से 1950 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
4. सी. डी. देशमुख 29 मई 1950 से 1957 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
5. टी. टी. कृष्णामचारी 1957 से 13 फरवरी 1958 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
6. जवाहर लाल नेहरु 13 फरवरी 1958 से 13 मार्च 1958 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
7. मोरारजी देसाई 13 मार्च 1958 से 29 अगस्त 1963 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
8. टी. टी. कृष्णामचारी 29 अगस्त 1963 से 1965 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
9. सचिन्द्र चौधरी 1965 से 13 मार्च 1967 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
10. मोरारजी देसाई 13 मार्च 1967 से 16 जुलाई 1969 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
11. इंदिरा गाँधी 1970 से 1971 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
12. यशवंतराव चौहान 1971 से 1975 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
13. चिदम्बरम सुब्रमनियम 1975 से 1977 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
14. हरिभाई एम. पटेल 24 मार्च 1977 से 24 जनवरी 1979 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
15. चौधरी चरण सिंह 24 जनवरी 1979 से 28 जुलाई 1979 तक जनता पार्टी
16. हेमवती नंदन बहुगुणा 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 जनता पार्टी
17. आर. वेंकटरमण 14 जनवरी 1980 से 15 जनवरी 1982 तक जनता पार्टी (सेक्यूलर)
18. प्रणब मुखर्जी 15 जनवरी 1982 से 31 दिसम्बर 1984 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
18. वी. पी. सिंह 31 दिसम्बर 1984 से 24 जनवरी 1987 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
19. राजीव गाँधी 24 जनवरी 1987 से 25 जुलाई 1987 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
20. एन. डी. तिवारी 25 जुलाई 1987 से 25 जून 1988 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
21. शंकर राव चौहान 25 जून 1988 से 02 दिसम्बर 1989 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
22. मधु दंडवते 02 दिसम्बर 1989 से 10 नवम्बर 1990 तक जनता दल (राष्ट्रीय मोर्चा)
23. यशवंत सिन्हा 10 नवम्बर 1990 से 21 जून 1991 तक समाजवादी जनता पार्टी (राष्ट्रीय मोर्चा)
24. मनमोहन सिंह 21 जून 1991 से 16 मई 1996 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
25. जसवंत सिंह 16 मई 1996 से 01 जून 1996 तक भारतीय जनता पार्टी
26. पी. चिदम्बरम 01 जून 1996 से 21 अप्रैल 1997 तक तमिल मनिला कांग्रेस (संयुक्त मोर्चा)
27. आई. के. गुजराल 21 अप्रैल 1997 से 01 मई 1997 तक जनता दल (संयुक्त मोर्चा)
28. पी. चिदम्बरम 01 मई 1997 से 19 मार्च 1998 तक तमिल मनिला कांग्रेस (संयुक्त मोर्चा)
29. यशवंत सिन्हा 19 मार्च 1998 से 01 जुलाई 2002 तक भारतीय जनता पार्टी (एनडीए)
30. जसवंत सिंह 01 जुलाई 2002 से 22 मई 2004 तक भारतीय जनता पार्टी (एनडीए)
31. पी. चिदम्बरम 22 मई 2004 से 30 नवम्बर 2008 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (यूपीए)
32. मनमोहन सिंह 30 नवम्बर 2008 से 24 जनवरी 2009 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (यूपीए)
33. प्रणब मुखर्जी 24 जनवरी 2009 से 26 जून 2012 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (यूपीए)
34. मनमोहन सिंह 26 जून 2012 से 31 जुलाई 2012 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (यूपीए)
35. पी. चिदम्बरम 31 जुलाई 2012 से 26 मई 2014 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (यूपीए)
36. अरूण जेटली 26 मई 2014 से पदस्थ भारतीय जनता पार्टी (एनडीए)

Published On:
May, 24 2019 07:59 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।