दलित परिवार के मुखिया की हत्या होने पर परिवार को मिलेगा 5 हजार रुपए प्रति माह पेंशन

By: Iftekhar Ahmed

Updated On: Oct, 09 2018 07:49 PM IST

  • एससी/एसटी आयोग के अध्यक्ष ब्रजलाल ने की घोषणा

बागपत. वर्षों से समाजिक उत्पीड़न और बहिष्कार का दंश झेलने वाले दलित समाज के मंगलवार को बहुत ही राहत की खबर आई। बागपत दौरे पर पहुंचे उत्तर प्रदेश एससी/एसटी आयोग के चेयरमैन और यूपी पुलिस के पूर्व DGP ब्रजलाल ने घोषणा की, 14/6/2016 के बाद हत्या के शिकार हुए दलित समाज के मुखिया के परिवार को 5000 रुपए हर महीने पेंशन दी जाएगी। इसके साथ ही उनके बच्चों को ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई सरकारी खर्चे पर कराई जाएगी।

यह भी पढ़ें- आम चुनाव में सफलता के लिए कांग्रेस का यह फॉर्मूला जानकर हो जाएंगे हैरान

बागपत के दौरे पर पहुंचे एससी/एसटी आयोग के चेयरमैन और यूपी पुलिस के पूर्व DGP ब्रजलाल ने जिले के प्रशानिक अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान आयोग के चैयरमेन ब्रजलाल सिंह ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि अब किसी दलित परिवार के मुखिया की हत्या होने पर परिवार के लोगों को 5 हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी। यही नहीं उसके बच्चों के ग्रेजुएशन तक कि पढ़ाई का भी खर्च उठाया जाएगा। इतना ही नहीं, जिस शख्स की हत्या हुई है, उसकी हत्या की तारिख से 3 महीने तक उसके परिवार का सारा खर्च भी उठाया जायगा।

यह भी पढ़ें- सपा नेता आज़म खान ने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ कोसी नदी में किया जल सत्याग्रह तो दिखा ऐसा नजारा

एससी/एसटी आयोग के चेयरमैन ब्रजलाल सिंह ने 1 जून 2016 के प्रवधान का हवाला देते हुए कहा कि यह 14/6/2016 को प्रकाशित हुआ था, लेकिन जानकारी का अभाव होने की वजह से लोगों को इसका फायदा नहीं मिला। उन्होंने कहा कि इसी के तहत 14 जून के बाद दर्ज मामलों की समीक्षा कराने और उनको पेंशन का फायदा पहुंचाने के आदेश आयोग की तरफ से जारी किए गए हैं। यही नहीं पूर्व DGP ने कहा कि वो खुद आयोग जाकर प्रदेश सरकार को समीक्षा के लिए आदेश जारी करेंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने SC/ST मामले को लेकर जारी हुए सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हुए दंगे को लेकर कहा कि चुनावी माहौल है और कुछ लोग समाज को बांटने की कोशीश कर रहे हैं। लोगों भ्रमित किया जा रहा है कि इस कानून का गलत उपयोग होगा, लेकिन पूर्व DGP ने इस बात को खारिज करते हुए कहा कि इस कानून का कोई दुरपयोग नहीं हो पायेगा। इसकी जांच में पुलिस के उच्चाधिकारियों द्वारा की जाती है।

Published On:
Oct, 09 2018 07:49 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।