लोकसभा चुनाव से पहले टूटी यह पार्टी, पार्टी सुप्रीमो पर लगाया परिवारवाद का आरोप

By: Akhilesh Kumar Tripathi

Published On:
Sep, 12 2018 06:29 PM IST

 
  • गरीबों और पिछड़ों की लड़ाई लड़ने का किया ऐलान

मऊ. लोकसभा चुनाव 2019 से पहले बीजेपी की सहयोगी दल सुभासपा को बड़ा झटका लगा है। सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर पर गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी के नेता मदन राजभर ने समर्थकों के साथ पार्टी छोड़कर एक नई पार्टी का गठन किया है। मदन राजभर ने भारतीय संघर्ष समाज पार्टी का गठन किया है और राजभर समाज के लोगों के लिये लड़ाई लड़ने का ऐलान किया।

चुनाव का समय जैसे-जैसे नजदीक आता है, वैसे वैसे छोटे राजनीतिक दल भी मैदान में आ जाते हैं। भारतीय संघर्ष समाज पार्टी को इसी कड़ी में देखा जा रहा है। जिलाधिकारी कार्यालय पर अपनी पार्टी के मुठ्ठी भर कार्यकर्ताओं के दम पर उन्होंने ओमप्रकाश राजभर को चुनौती देते हुए दबे और पिछड़े समाज की लड़ाई लड़ने की बात कही।

भारतीय संघर्ष समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मदन राजभर ने अोमप्रकाश राजभर पर गम्भीर आरोप लगाये। उन्होंने कहा कि ओमप्रकाश राजभर गरीब राजभरों की लड़ाई नहीं लड़ रही है, बल्कि वह तो वंशवाद को बढ़ावा देने में व्यस्त हैं । उन्होंने कहा कि ओमप्रकाश राजभर ने अपने समाज के लोगों के साथ छल और कपट किया है। जिसके विरोध में इस नई पार्टी का गठन किया गया है जो गरीबों और मजलूमों के साथ ही समाज के हितों की लड़ाई लड़ेगी।

मदन राजभर ने कहा कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर अपने सिद्धांतों से हटकर काम करने लगे। ओमप्रकाश पहले कहा करते थे कि हम आजीवन चुनाव नहीं लड़ेंगे। लेकिन वह अपने खुद चुनाव तो लड़े ही और अपने बेटों को भी चुनाव लड़वाया, इसके अलावा भारतीय जनता पार्टी से समझौता के तहत मिली 8 सीटों में से 4 सीट एससी के कार्यकर्ताओं को दे दिए। उन्होंने चार सीटों में एक सीट को बेच दिया और बाकी बचे 3 सीट अपने परिवार के लोगों में बांट लिया।

उन्होंने कहा कि सुभासपा परिवारवाद और वंशवाद की राह पर चल पड़ी है, इसलिए हम राजभर समाज के लोग इस नई पार्टी को बनाकर अपने समाज के लोगों के लिये आंदोलन को तेज कर रहे हैं।

 

BY- VIJAY MISHRA

Published On:
Sep, 12 2018 06:29 PM IST