जिले के 165 स्कूलों में बारिश का पानी के बीच विद्यार्थी

By: Vikas Tiwari

Published On:
Aug, 12 2019 04:25 PM IST


  • जिले के १६५ स्कूलों में बारिश का पानी के बीच विद्यार्थी

मंदसौर.
जिले में एक या दो नहीं बल्कि करीब १६५ ऐसे स्कूल है। जहां पर विद्यार्थियों को पढ़ाई के दौरान बारिश के पानी से भी बचना पड़ता है। वहीं १५ तो जीर्णशीर्ण स्कूल है। जो गिरने की स्थिति में है। शिक्षा अधिकारियों की सर्तकता इतनी है कि जब भारी बारिश को लेकर कलेक्टर द्वारा स्कूल के अवकाश के आदेश दिए। उसी दिन जीर्णशीर्ण और ऐसे कक्ष जहां पर पानी का रिसाव हो रहा है। वहां पर विद्यार्थियों को नहीं बिठाने के निर्देश जारी किए है। डीईओ कार्यालय के सूत्रों की माने तो जिले में करीब २०० से अधिक स्कूलों की कक्षाओं में पानी का रिसाव हो रहा है।
बारिश से पहले हो जाना चाहिए मरम्मत
जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार बारिश से करीब तीन माह पहले जीर्णशीर्ण और ऐसे स्कूल जिनमें बारिश के दौरान समस्या आती है। उसकी सूची बनाकर मरम्मतीकरण का कार्य किया जाता है। लेकिन जिले में प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों की सुध जिम्मेदार अधिकारियों ने नहीं ली। जिसका खामियाजा वहां पर पढऩे वाले सैकड़ों विद्यार्थी उठा रहे है।
कई विद्यालयों में बाउंड्रीवाल नहीं तो कही क्षतिग्रस्त
जिले के प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में से बड़ी संख्या में ऐसे प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय है। जिनकी बाउंड्रीवाल ही नहीं है। और कई स्कूलों की बाउंड्रीवाल ही क्षतिग्रस्त है। ऐसे में बारिश के मौसम में जहरीले जानवरों का भय भी विद्यार्थियों को लगा रहता है। इस और भी शिक्षा अधिकारियों ने अभी तक ध्यान नहीं दिया है। जबकि सबसे अधिक जहरीले जानवर बारिश के मौसम में ही निकलते है।
७० से अधिक स्कूलों में अतिक्रमण
जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के सूत्रों की माने तो अतिक्रमणकर्ताओं ने शिक्षा के मंदिर को भी नहीं छोड़ा है। जिले में करीब ७० स्कूल ऐसे है। जिनमें लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है। कही मवेशियों केा बांध देते है। तो कही पर ट्रेक्टर-ट्राली खड़ी कर देते है। तो कही पर गुमटियां लगा लेते है। इस अतिक्रमण की हर साल सूची बनती है। लेकिन केवल कागजों में ही अतिक्रमण मुक्त करने की कार्रवाई अधिकारियों के द्वारा की जा रही है।
इनका कहना...
१४० स्कूलों की कक्षाओं में पानी की रिसाव हो रहा है। तो १५ जीर्णशीर्ण है। इन जीर्णशीर्ण स्कूलों से विद्यार्थियों को अन्य स्कूलों मेंं पढ़ाने के और जिन स्कूलों की कक्षाओं में छत सेपानी का रिसाव हो रहा है। उनको दूसरे कक्ष में पढ़ाने के लिए निर्देश दे दिए है। जीर्णशीर्ण में बहुत सी बंद शालाएं भी है।
आरएल कारपेंटर, जिला शिक्षा अधिकारी।

Published On:
Aug, 12 2019 04:25 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।