किसान कर रहे बारिश रूकने का इंतजार

By: Sawan Singh Thakur

Updated On:
25 Aug 2019, 07:14:09 PM IST

  • खाद व कीटनाशक छिड़काव में हो रही परेशानी

मंडला। खरीफ की बोवनी के पहले किसानों ने जहां बारिश के लिए भजन-कीर्तन व टोने-टोटके का सहारा लेकर हर जतन किए। वहीं अब वे लगातार पानी बरसने से चिंतित हो उठे हैं। खेतों में बतर नहीं आने से खरपतवार नियंत्रण का मौका नहीं मिल रहा। वहीं उन्हें फसल में कीट प्रकोप की आशंका भी है। उल्लेखनीय है कि जिले में जुलाई के पहले सप्ताह में मानसून सक्रिय हुआ है। प्री मानसून बरसात के बाद बोवनी कर चुके किसानों की खरीफ फसल तो अपेक्षाकृत ठीक है, लेकिन जुलाई के दूसरे सप्ताह में बुवाई करने वाले किसान इन दिनों चिंतित हैं। दरअसल लगातार हो रही बारिश से उन्हें खेतों में खरपतवार नियंत्रण का मौका नहीं मिल रहा। डिठौरी, चिरईडोंगरी, पिंडरई आदि क्षेत्र के किसानों का कहना है कि कम दिन में पककर तैयार होने वाली सोयाबीन की किस्म में अपेक्षाकृत बढ़त कम है। पौधे पर फूल आ चुके हैं। कुछ खेतों में पौधों पर फलियां भी आने लगी हैं। लगातार बारिश से खेतों में खरपतवार नियंत्रण नहीं हो रहा है। पौधों की बढ़त भी रुकी हुई है। इससे फली में दाना उतना नहीं आएगा जितना आना चाहिए। इस स्थिति में उत्पादन प्रभावित हो सकता है। मच्छरों का प्रकोप होने से फूल नष्ट भी हो रहे हैं। इन पर नियंत्रण के लिए यदि कीटनाशक का छिड़काव किया जाता है तो शाम होने तक बारिश शुरू होने लगती है। जिसके चलते मेहनत बेकार जाती है। इससे फसल की लागत बढ़ रही है। जानकार किसानों का कहना है कि तापमान कम-ज्यादा होने से फसल में रोग व कीटों का प्रकोप अधिक होने की आशंका रहती है। इस स्थिति में फसल की सतत निगरानी बेहद जरूरी है। फसल में कीट प्रकोप दिखते ही किसान इसे नियंत्रित करें।
धान के बाद मक्का की फसल सोयाबीन के बाद जिले में सबसे ज्यादा रकबे में बोई गई फसल है। मक्का फसल पर फिलहाल किसी तरह के रोग की पुष्टि तो नहीं हुई हैं, लेकिन खेतों में तोते के झुंड पौधे को नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसानों के मुताबिक तोते झुंड के रूप में फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं।
जिले में इस वर्ष एक जून से 24 अगस्त के दौरान 1013.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है जबकि इसी अवधि तक गत वर्ष 869.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई थी। इस प्रकार गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 144.3 मिलीमीटर अधिक वर्षा दर्ज की गई है। अधीक्षक भू-अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष मंडला तहसील में 1052.1 मिमी., नैनपुर में 951.4, बिछिया में 1073.4, निवास में 1215.4, घुघरी में 822.5 तथा नारायणगंज में 974.8 मिमी कुल वर्षा दर्ज की गई।

Updated On:
25 Aug 2019, 07:14:09 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।