नेपाल ने भारतीय सब्जियों व फलों को को किया प्रतिबंधित, करोड़ों का होगा भारतीय कारोबारियों को नुकसान

By: Dheerendra Vikramadittya

Published On:
Jul, 12 2019 08:29 PM IST

    • लैब टेस्ट के बाद ही भारतीय सब्जियों/फलों को बेचने के लिए नेपाल भेजा जा सकेगा
    • नेपाल में भारी विरोध के बाद नेपाली कोर्ट ने दिया आदेश, सरकार ने जारी किया शासनादेश

नेपाल के एक निर्णय से इस देश में कारोबार कर रहे भारतीय कारोबारियों को करोड़ों का नुकसान उठाना पडेगा। नेपाल ने भारत से आपूर्ति होने वाली सब्जियों फलों में केमिकल अधिक होने की बात कहकर प्रतिबंधित कर दिया है। बिना जांच के अब नेपाल भारत से इन सामानों की आपूर्ति नहीं लेगा। बुटवल में बनाए गए लैब में टेस्ट के बाद ही सब्जियों या फलों को नेपाल में प्रवेश दिया जाएगा। जनता के विरोध और सब्जियों-फलों में खतरनाक रसायन की शिकायत के बाद यह बैन लगाया गया है।

नेपाली आवाम में भारतीय सब्जियों का क्यों है विरोध, यह है मामला

नेपाल में भारतीय सब्जियों व फलों में केमिकल होने की बात कहकर भारी विरोध हो रहा है। इस विरोध के क्रम में ही वहां के सर्वाेच्च न्यायालय में ज्योति बनिया ने एक शिकायत की। शिकायत पर सुनवाई करते हुए न्यायाधीश डाॅ.आनंद मोहन ने बिना लैब टेस्ट के भारतीय सब्जियों-फलों के नेपाल में बिक्री पर बैन को कहा। इसको देखते हुए नेपाल सरकार ने यह निर्णय लिया कि बिना टेस्ट के नेपाल में सब्जी या फलों की बिक्री नहीं होगी।

यह भी पढ़ें- केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह केवल धमकी देते रहे, नेपाल ने करना शुरू किया

अब बुटवल में लैब टेस्ट के बाद ही ट्रकों को किया जाएगा पास

नेपाल ने अब भारतीय खाद्य सामग्री के जांच बिना प्रवेश को बैन कर दिया है। अब भैरहवां से करीब बीस किलोमीटर दूर बुटवल में स्थित लैब में सब्जियों या फलों की जांच होगी। यहां से रिपोर्ट में अगर सही पाया गया तो सब्जियों को नेपाली सीमा में भेजा जाएगा अन्यथा वापस कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलकर मुस्लिम समाज ने मांगा कांवड़ियों के लिए विश्रामगृह

बढ़ी भारतीय कारोबारियों की मुश्किलें

नेपाल-भारत के बीच कारोबार का भी बहुत अहम रिश्ता है। दोनों देशों के व्यापारिक संबंध होने की वजह से यहां के बाजार में भारतीय सामान अटे पड़े होते। फल-सब्जी, पेय पदार्थ सहित तमाम सामान यहां के बाजारों में प्रतिदिन भेजा जाता है। एक अनुमान के मुताबिक सौ करोड़ से अधिक का व्यापार यहां भारतीय व्यापारी करते हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों पहले ही नेपाल ने खतरनाक केमिकल होने की बात कहते हुए सब्जियां आदि पर प्रतिबंध आए दिन लगा दिया जा रहा। आए दिन लगने वाले इस बैन से कारोबारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। बता दें कि भारत के व्यापारी नेपाल में करोड़ों रुपये का व्यापार करते हैं। यहां कारोबार करने में व्यापारी इसलिए भी रूचि दिखाते हैं क्योंकि यहां नकदी का कारोबार होता है। नेपाली व्यापारी नकद भुगतान कर सामानों को खरीद लेते हैं।

यह भी पढ़ें- तेवर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ताबड़तोड़ इतने अधिकारियों को हटाए जाने का आदेश

कई बार लगा चुका है नेपाल इस तरह बैन

बीते जून से नेपाल कई बार भारतीय कारोबारियों के सामानों पर बैन लगा चुका है। 21 जून को सरकार ने नेपाल में आने वाली भारतीय सब्जियों/फलों के बिक्री पर रोक लगा दी। राजधानी काठमांडू में लैब टेस्ट कराने के बाद ही प्रवेश की अनुमति देने की बात कही गई। कुछ दिनों तक लैब टेस्ट का मामला चलता रहा। लेकिन 5 जुलाई को अचानक से सरकार ने बैठक कर यह अनिवार्यता खत्म कर दी। सात जुलाई से भारतीय सामानों यथा पैक्ड दूध, एनर्जी ड्रिंक, सब्जी, फल आदि की आपूर्ति बिना लैब टेस्ट ही होने लगी। सरकार के इस निर्णय के खिलाफ नेपाली उपभोक्ताओं ने विरोध किया। मामला सर्वाेच्च न्यायालय तक पहुंचा। 9 जुलाई को भारतीय सामानों के आयात के खिलाफ नेपाल में प्रदर्शन शुरू हो गया। 10 जुलाई को नेपाल के सर्वाेच्च न्यायालय ने बिना प्रयोगशाला जांच के भारतीय सब्जियों, फलों की बिक्री पर रोक लगा दी। 11 जुलाई से नेपाल ने भारतीय सब्जियों या फलों से लदे ट्रकों को सीमा पर ही लैब टेस्ट के लिए रोकना शुरू कर दिया। अब बुटवल में लैब टेस्ट के बाद ही हरी सब्जियों या फलों को पास किया जा रहा है। लैब टेस्ट के नए फरमान से भारतीय कारोबारियों में हड़कंप मचा है।

यह भी पढ़ें- नेपाल ने भारत के खिलाफ दिखाए तेवर, लिया यह बड़ा फैसला, हो रहा भारी नुकसान

Published On:
Jul, 12 2019 08:29 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।