बीवियों के मेले में उमड़ पड़ा महिलाओं का हुजूम, मन्नतो का चला दौर

By:

Published On:
Sep, 24 2018 11:11 PM IST

  • सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि पर ईदगाह और कीरत सागर तटबंध पर पुलिस का कड़ा बंदोबस्त था।

MAHOBA. शहर से पांच किलो मीटर दूर ईदगाह करियापठवा में मोहर्रम की बारहवीं तिथि को बीबियों का मेला लगा। इस मेले में शहर की महिलाओं ने बड़े तादाद में पहुंचकर शिरकत की। मन्नत मांगने के लिये पहाड़ पर बने कुऐ में शक्कर से भरी पुड़िया भी डाली गयी। करियापठवा के बाद कीरत सागर तटबंध पर दिन भर मेला चलता रहा, यहां तमाम तरह की दुकाने सुबह से ही सज गयी थी, जिसमें शाम तक महिलाओं ने पहुंचकर गृह उपयोगी वस्तुओं की खरीदारी की। झूले भी लगे थे और खेल खिलौने की दुकाने सजी थी जिसमें बच्चों की भीड़ दिखाई पड़ी और उन्होंने अपने मनपंसद खिलौने खरीदे।

दही चावल खाया गया

महिलाओं द्वारा मान्यता के मुताबिक दही चावल खाया गया। फातिहा हुयी और प्रसाद का वितरण हुआ। सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि पर ईदगाह और कीरत सागर तटबंध पर पुलिस का कड़ा बंदोबस्त था।
शहर से तकरीबन 5 किलो मीटर दूर करिया पठवा स्थित ईदगाह में बीबियों का मेला सम्पन्न हुआ। सुबह दस बजे से नगर की महिलाओं का करिया पठवा की तरफ जाना शुरू हो गया था। यहां पहुंच कर महिलाओं द्वारा मन्नत मांगने के खातिर करिया पठवा पहाड़ पर स्थित कुऐ में शक्कर से भरी पुड़ियां डाली गई। लोगों की मान्यता कि कुऐ में शक्कर की पुड़ियां डालने पर यदि पुड़िया डूब जाती है तो मन्नत मांगने वालों की मन्नत पूरी हो जाती है। इसलिए मन्नत पूरी होने के लिऐ महिलाओं द्वारा सारा दिन कुऐ में पुडिया डालने की रस्म अदा की जाती रही। पुड़ियों के डूब जाने से महिलाओं के चेहरे खुशी से लवरेज हो गये तो वहीं जिन महिलाओं की पुड़िया कुऐ में नहीं डूबी वे खासी मायूस नजर आयी। इस परम्परा में शरीक होने के बाद महिलाओं द्वारा ईदगाह स्थित हुजरे में दही चावल पर बीबियों की फातिहा दिलायी और दुआ मांगी गयी ईदगाह करियापठवा के बाद महिलाऐं कीरत सागर तटबंध पर पहुंची और उन्होंने यहां तटबंध पर बैठकर दही चावल का सेवन किया सदियों से यहां दही चावल खाने की परम्परा का निर्वाहन हो रहा है।

यह मेला शाम तक चलता रहा

बीते कुछ वर्षों से यहां मेला सा दृश्य दिखाई पड़ने लगा है सुबह से ही कीरत सागर व ईदगाह के नजदीक कई तरह की दुकाने सजी थी, इनमें खाध्य सामग्रियों से लेकर तमाम तरह के बर्तनों की दुकाने सजी हुयी थी। बच्चों के लिये पालकी, झूला लगे थे तथा खेल खिलौनों की दुकाने भी सजी हुयी थी। सुबह से शुरू हुआ बीबियों का यह मेला शाम तक चलता रहा। आवागमन के लिये दिन भर तिपहिया वाहन दौड़ते रहे, सुरक्षा व्यवस्था के कीरत सागर तटबंध से लेकर ईदगाह तक कड़े बंदोबस्त किये गये थे।

Published On:
Sep, 24 2018 11:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।