नवाबों के शहर में हिन्दू और मुस्लिम ने एक साथ निकाला मुहर्रम का जुलूस

By: Mahendra Pratap Singh

Updated On: 22 Sep 2018, 02:41:10 PM IST

 
  • विश्वशांति के उद्देश्य के साथ निकाला गया जुलूस

लखनऊ , ऐसे नहीं पुरे हिन्दुस्थान में नवाबों के शहर लखनऊ की अपनी अलग पहचान हैं। किसी ने खूब कहाकि नदी में गिरने से ,कभी भी किसी की मौत नहीं होती ,मौत तो तब होती है। जब उसे तैरना नहीं आता ,ठीक उसी तरह परिस्थितियाँ कभी भी हमारे लिए, समस्या नहीं बनती। समस्या तो तब बनती हैं। जब हमें परिस्थितियों से निपटना नहीं आता, यक़ीन करना सीखो शक तो सारी दुनिया करती है। कुछ इसी सोच को लेकर राजधानी लखनऊ में दसवीं मोहर्रम का जुलूस निकाला गया। जिसमें गुरु स्वामी सारंग महाराज ने शिया धर्म गुरु मौलाना कल्बे जव्वाद के साथ मिलकर मातम में शिरक़त की और इसके माध्यम से एक सन्देश भी दिया कि हम कभी एक दूसरे पर भरोषा करते जिसका फायदा हमेशा दूसरा उठाता हैं। गुरु स्वामी सारंग कहाकि मेरा यह उद्देश्य हैं कि इस तरह के मिलजुल कर इस भाईचारे को विश्व स्तर पर ले जाना चाहता हूँ और इसके लिए मैं हर संभव कार्य करता रहूगा। जो लोग हमारे धर्म के नाम पर लड़ाते हैं

Updated On:
22 Sep 2018, 02:41:09 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।