गलत तरीके से खाया गया तरबूज़ आपको पहुंचा सकता है हॉस्पिटल, जानें कैसे

By: आकांक्षा सिंह

|

Published: 04 May 2017, 10:40 AM IST

Lucknow, Uttar Pradesh, India

लखनऊ। गर्मियां आते ही हम रसीले फल खाना शुरू कर देते हैं। जैसे आम तरबूज खरबूज़ आदि। इनमें से खरबूज़ आजकल बाज़ारों में काफी बिक रहा है। तरबूज पारमरिक रूप से गर्मी में खाना अच्छा माना जाता है क्योंकि यह शरीर में पानी की कमी को पूरा करते हैं। कुछ स्रोतों के अनुसार तरबूज़ रक्तचाप को संतुलित रखता है और कई बीमारियाँ दूर करता है। हिन्दी की उपभाषाओं में इसे मतीरा (राजस्थान के कुछ भागों में) और हदवाना (हरियाणा के कुछ भागों में) भी कहा जाता है। लेकिन अगर गर्मियों में तरबूज का सेवन गलत तरीके से करता है वो हॉस्पिटल पंहुचा सकता है। आइये हम आपको उन गलतियों के बारे में बताते हैं।

1.खाली पेट तरबूज का सेवन न करें, और करना पड़े तो बिना नमक के तरबूज न खाएं।

2. जुकाम, नजला रोगी तरबूज का सेवन न करें।

3. अस्थमा, हार्ट और शुगर, किडनी रोगी बहुत कम मात्रा में सेवन करें या न करें। इसमें एमिनो एसिड अस्थमा और पोटेशियम हार्ट वालो को थोड़ी दिक्कत कर सकता, शूगर का लेवल बढ़ाता है।

4. तरबूज के बाद कोई भी लिक्विड न लें। पानी तो किसी हालत में न पियें जान पर बन आएगी|

5. चावल और तरबूज विरुद्ध आहार है, इनके बीच 3 घण्टे का गैप रखें।

6. रात के समय भी तरबूज बिलकुल न खाए

7.धुप में तपा हुआ तरबूज पानी में रखकर गर्मी निकाल दें तब खाए| गरम तरबूज बिलकुल न खाए|

8.तरबूज काटकर तुरंत खाए| कटा तरबूज फ्रिज में भी न रखें| चिल्ड तरबूज खाने का मन हो तो साबुत फ्रिज में रखे| या बर्फीले पानी में साबुत रखें| फिर खाए|

9. मार्केट का कटा खुला बिकने वाला तरबूज किसी हालत में न खाए|

तरबूज खाने से होने वाले लाभ

    खाना खाने के उपरांत तरबूज़ का रस पीने से भोजन शीघ्र पचना। नींद आने में आसानी। रस से लू लगने का अंदेशा कम होना।
    मोटापा कम करने में लाभ।
    पोलियो के रोगियों में ख़ून को बढ़ाना और साफ़ करना। त्वचा रोगों में फ़ायदेमंद।
    तपती गर्मी में सिरदर्द होने पर आधा-गिलास रस सेवन से लाभ।
    पेशाब में जलन पर ओस या बर्फ़ में रखे हुए तरबूज़ के रस का सुबह शक्कर मिलाकर पीने से लाभ।
    गर्मी में नित्य तरबूज़ के ठंडा शरबत से शरीर का शीतल होना। चेहरा चमकदार होना। लाल गूदेदार छिलकों को हाथ-पैर, गर्दन व चेहरे पर रगड़ने से सौंदर्य निखरना।
    सूखी खाँसी में तरबूज़ खाने से खाँसी का बार-बार चलना बंद होना।
    तरबूज़ की फाँकों पर काली मिर्च पाउडर, सेंधा व काला नमक बुरककर खाने से खट्टी डकारों का बंद होना।
    धूप में चलने से बुख़ार आने की स्थिति में फ़्रिज के ठंडे तरबूज़ खाने से फ़ायदा।
    तरबूज़ के गूदे को "ब्लैक हैडस" द्वारा प्रभावित जगह पर आहिस्ता रगड़कर धोने पर लाभ।
    तरबूज़ में विटामिन ए, बी, सी तथा लौहा भी प्रचुर मात्रा में मिलता है, जिससे रक्त सुर्ख़ व शुद्ध होता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।