नीरव मोदी को नहीं मिली राहत, लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में खारिज हुई जमानत याचिका

By: Manish Ranjan

Updated On: Mar, 30 2019 11:09 AM IST

    • लंदन की कोर्ट में पेश हुए नीरव मोदी
    • नीरव मोदी की जमानत अर्जी लंदन के वेस्टमिन्सटर कोर्ट में खारिज हुई
    • टोबी कैडमैन ने कोर्ट में कहा - नीरव मोदी ने चश्मदीद 'आशीष लद' को बुलाकर जान से मारने की धमकी दी।

नई दिल्ली। आज लंदन की कोर्ट में देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के आरोपी नीरव मोदी की जमानत को लेकर आज सुनवाई अब खत्म हो गई है। नीरव मोदी को वेस्टमिस्टर कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई और ईडी की टीमें भी कोर्ट पहुंच में सुनवाई के दौरान मौजूद रहीं। नीरव मोदी की जमानत अर्जी लंदन के वेस्टमिन्सटर कोर्ट में खारिज हुई।


नीरव मोदी के एटॉर्नी ने कहा कोर्ट में कहा कि नीरव मोदी जनवरी 2018 से ही लंदन में रह रहे हैं। अगस्त 2018 में उन्हें पता चला कि उन्हें भारत प्रत्यर्पण किया जाएगा। वो लंदन में खुलेआम रह रहे हैं और छुपने की उनकी कोई मंशा नहीं है। एटार्नी क्लेयर मॉन्टगोमरी ने यह भी कहा, "डिफेंस नीरव मोदी के हाउस अरेस्ट व इलेक्ट्रॉनिक मॉनिटरिंग की बात का सुझाव दे रहा है। इससे लोकल पुलिस स्टेशन को दिनभर मॉनिटर करना होगा। आप उन्हें एक ऐसा फोन दे सकते हैं जिसके अथॉरिटी द्वारा एक्सेस किया जा सके। "

 

ED ने जांच अधिकारी को हटाने की खबर का खंडन किया। नीरव मोदी केस के मुख्य जांच अधिकारी हैं सत्यव्रत। नीरव मोदी की सुनवाई से पहले टोबी कैडमैन ( भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे ) ने कहा कि अगर वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट नीरव मोदी को जमानत मिल जाती है, तो उसके बाद भी हम शांत नहीं बैठेंगे। हम इसके खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करेंगे। हम उसे हिरासत में रखने के लिए सब कुछ करेंगे। टोबी कैडमैन ने कोर्ट में कहा - नीरव मोदी ने चश्मदीद 'आशीष लद' को बुलाकर जान से मारने की धमकी दी।

 

इसी बीच सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि नीरव मोदी के केस की जांच करने वाले प्रवर्तन निदेशालय के संयुक्त निदेशक सत्यब्रत कुमार का ट्रांसफर किया जा चुका है। सत्यब्रत कुमार विजया माल्या के जांच मामले में भी अहम भूमिका निभा चुके हैं और आज लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में निदेशक सत्यब्रत कुमार भी मौजूद हैं।

 

मैट्रो बैंक की ब्रांच से किया था गिरफ्तार

आपको बता दें कि नीरव मोदी को होनी से पहले बुधवार को लंदन के मैट्रो बैंक की ब्रांच से स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने गिरफ्तार किया था। जिसके बाद से उसे जेल में रखा गया है। जानकारों की मानें तो लंदन की कोर्ट में उसे आज सख्त शर्तों के साथ जमानत हो सकती है। आइए आपको भी बताते हैं कि किन शर्तों के साथ जमानत हो सकती है?

 

इस बैंक में खाता खुलवाने पहुंचा था नीरव

जानकारी के अनुसार नीरव मोदी को लंदन स्थित मेट्रो बैंक की ब्रान्च से गिरफ्तार किया गया था। बैंक के एक चौकन्ने अधिकारी ने नीरव मोदी को पहचाना और पुलिस को जानकारी दी। जिसकी मदद से नीरव मोदी को गिरफ्तार किया जा सका। नीरव मोदी बैंक में अपना अकाउंट खुलवाने पहुंचा था। नीरव मोदी को जहां से गिरफ्तार किया गया।

 

तीन पासपोर्ट का मालिक है नीरव

पीएनबी बैंक से 13 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का घोटाला करने वाले नीरव मोदी के पास तीन पासपोर्ट हैं। भारतीय एजेंसियों ने नीरव के पासपोर्ट को रद्द कर दिया था। उसके पास जो पासपोर्ट हैं, उसमें एक अब मेट्रोपोलिटन पुलिस के पास है, दूसरा पासपोर्ट ब्रिटेन के गृह विभाग के पास पड़ा है। इसकी समयसीमा समाप्त हो चुकी है। तीसरा पासपोर्ट ब्रिटेन के ड्राइविंग एंड व्हीकल लाइसेंसिंग अथॉरिटी के पास है। अदालत को यह भी बताया गया कि नीरव मोदी के पास पासपोर्ट के अलावा कई रेसिडेंसी कार्ड भी हैं। इनमें से कुछ की समयसीमा खत्म हो गई है। उसके पास जिन देशों के रेसिडेंसी कार्ड हैं, उनमें संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर और हॉन्ग-कॉन्ग के हैं।

Published On:
Mar, 29 2019 11:10 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।