दुनिया में सबसे ज्यादा सैलरी पाते हैं अल्फाबेट इंक के सीईओ सुंदर पिचाई

By: Saurabh Sharma

|

Updated: 26 Apr 2020, 03:18 PM IST

कॉर्पोरेट

नई दिल्ली। गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट ( Alphabet Inc ) के सीईओ और भारतीय मूल के सुंदर पिचाई ( Sunder Pichai ) दुनिया के सबसे महंगे या यूं कहें कि सबसे ज्यादा सैलरी पाने सीईओ बन बन गए हैं। मार्केटवाच की एक रिपोर्ट अनुसार 2019 में उन्हें कुल 28.1 करोड़ डॉलर या 2,144.53 करोड़ रुपए सैलरी मिली है। जो कि दुनिया में किसी भी सीईओ मिलने वाली सैलरी से बहुत ज्यादा है। आपको बता दें कि उनकी सैलरी का काफी बड़ा पार्ट अल्फाबेट इंक के शेयरों से आता है। स्टॉक मार्केट ( Stock Market ) में कंपनी के शेयरों के उतार चढ़ाव को देखते हुए उन्हें यह सैलरी दी जाती है। इन ताम बातों का खुलासा कंपनी ने खुद नियामक फाइलिंग में किया है।

दुनिया में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले सीईओ बने पिचाई
एक नियामक फाइलिंग में अल्फाबेट इंक ने खुलासा किया है कि 2019 के लिए उसके सीईओ सुंदर पिचाई की कुल मुआवजा राशि 280 करोड़ से अधिक रही है, जिससे 47 वर्षीय भारत में जन्मे बिजनेस लीडर दुनिया में सबसे अधिक भुगतान वाले अधिकारियों में से एक हैं। मार्केटवाच की एक रिपोर्ट के अनुसार, उस समय, पिचाई को गुगल का सीईओ नामित किया गया था, उनका मुआवजा लगभग 200 मिलियन तक पहुंच गया था, इसमें से अधिकांश अधिकार निदान स्टॉकिंग अवार्डस में थे।

2019 में मिली इतनी सैलरी
शुक्रवार को रिपोर्ट में कहा गया है कि पिचाई के मुआवजे में उछाल मुख्य रूप से अल्फाबेट के सीईओ के रूप में उनकी पदोन्नति से बंधे स्टॉक अवार्डस के कारण है। अमरीकी दिग्गज तकनीकी कंपनी अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई को 2019 में कुल 28.1 करोड़ डॉलर या 2,144.53 करोड़ रुपये की सैलरी मिली। भारतवंशी सुंदर पिचाई दुनिया के सबसे अधिक सैलरी पाने वाले अधिकारियों में शामिल रहे। अल्फाबेट ने जानकारी दी है कि इस साल उनका वेतन बढ़कर 20 लाख डॉलर (15.26 करोड़ रुपये) हो जाएगी। पिचाई की सैलरी अल्फाबेट कर्मचारियों के औसत कुल वेतन के 1085 गुना है।

शेयरों की कीमतों के आधार पर दिया जाएगा रुपया
अपने बेसिक सैलरी में वृद्धि के अलावा, पिचाई को दो स्टॉक पैकेज पेश किए गए जो समय के साथ बन गए। इनमें से कुछ का भुगतान एसएंडपी 100 की तुलना में अल्फाबेट के स्टॉक के प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा। इक्विलर द्वारा ट्रैक किए गए मुआवजे के अनुसार, बड़ी कंपनियों के सीईओ के लिए शीर्ष वार्षिक मुआवजा आमतौर पर हाल के वर्षों में 20 करोड़ से कम रहा है। कोरोना वायरस महामारी और आर्थिक संकट के माध्यम से अल्फाबेट को नेविगेट करने के कार्य के साथ, पिचाई कथित तौर पर इस साल मार्केटिंग खचरें में कटौती कर रहे हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।