Patrika Impact : तीन बोरिंग से ऑक्सीजोन में पेड़ों को सींचेंगे

By: Suraksha Rajora

Published On:
Jun, 11 2019 11:20 PM IST

 
  • आईएल के ऑक्सीजोन में भीषण गर्मी से अब पेड़-पौधे सूखेंगे नहीं, बल्कि हरियाली को बचाने के लिए पाइप लाइन के...

 

कोटा. आईएल के ऑक्सीजोन में भीषण गर्मी से अब पेड़-पौधे सूखेंगे नहीं, बल्कि हरियाली को बचाने के लिए पाइप लाइन के माध्यम से बुधवार से पानी देने का काम शुरू कर दिया जाएगा। इससे मुर्झाए पेड़-पौधों को नया जीवन मिलेगा।
राजस्थान पत्रिका ने नगर विकास न्यास की ओर से लाखों रुपए खर्च कर पाइप लाइन बिछाने के बाद भी कनेक्शन चालू नहीं होने की समस्या को प्रमुखता से उठाया था।

लोग 10 बजे बाद हो रहे थे टल्ली...गाज गिरी पुलिस कर्मियों पर

पानी के अभाव में बड़ी संख्या में पेड़-पौधे सूख रहे थे। हाड़ौती विकास मोर्चा के संभागीय अध्यक्ष राजेंद्र सांखला ने मंगलवार को न्यास और निजी बिजली कंपनी केईडीएल के अधिकारियों पर दबाव बनाया कि शाम तक विद्युत कनेक्शन नहीं किया गया तो वे अधिकरियों का घेराव करेंगे और धरने पर बैठ जाएंगे। पानी के अभाव में पेड़-पौधों को सूखने नहीं देंगे। दिनभर की मशक्कत के बाद शाम को ऑक्सीजोन में तीन विद्युत कनेक्शन हो गए। संभवत: बुधवार से पानी चालू कर दिया जाएगा।


डटे रहे ऑक्सीजोन में

सांखला सुबह 11 बजे से मोर्चा के शहर अध्यक्ष शादाब खान, दक्षिण विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष रघु शर्मा, गौरव मीणा के साथ ऑक्सीजोन में पहुंच गए और हर हाल में विद्युत कनेक्शन करवाने के लिए अधिकारियों से सम्पर्क करते रहे। शाम को मीटर लगा दिए गए और बिजली आपूर्ति का परीक्षण करवा दिया गया।

 

सांखला ने बताया कि एक महीने पहले ही आईएल परिसर में बोरिंग और पाइप लाइन बिछा दी गई थी, लेकिन बिजली के कनेक्शन नहीं होने के कारण पेड़ों को पानी नहीं मिल पा रहा था। ऐसे में पेड़ भीषण गर्मी में सूखने की कगार पर आ गए थे और पूरे आईएल परिसर की हरियाली को ग्रहण लगना शुरू हो गया था। इसके लिए यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने भी यूआईटी के अधिकारियों को आदेश दिए थे।

Published On:
Jun, 11 2019 11:20 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।