रेलवे की लापरवाही से कोटा के इंजीनियर ने गवाए दोनों पैर, अब मुआवजे का इंतजार

By: Rajesh Tripathi

|

Published: 10 Sep 2019, 07:27 PM IST

Kota, Kota, Rajasthan, India

कोटा. शहर के युवा इंजीनयर दीपक शुक्ला को चलती ट्रेन से फेंकने पर भी रेल प्रशासन की ओर से कोई कदम उठाए जाने के बाद सोमवार को कांग्रेस की ओर से डीआएम कार्यालय पर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के बाद एडीआरएम को ट्रेनों में सुरक्षा बढ़ाने के लिए मांग पत्र सौंपा गया। कांग्रेस देहात सेवादल के अध्यक्ष मनोज दुबे ने बताया कि लूट-पाट की घटनाओं में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इस ओर ध्यान देने की जरूरत है। इंदौर-निजामुद्दीन इंटरसिटी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे कोटा निवासी सॉफ्टवेयर इंजिनियर दीपक शुक्ला को चलती ट्रेन से फेंकने की घटना से यात्रियों में भय है।

कुछ ऐसा होगा ऑक्सीजोन का स्वरूप,, 10 हजार पेड़ और
कुदरती सौंदर्य से पर्यटक होंगे आकर्षित

आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी करने के साथ पीडि़ता को आर्थिक सहायता देने की जरूरत है। दोनों पैर कटने से दीपक के साथ अन्याय हुआ है। इसलिए रेलवे को उसे नौकरी देनी चाहिए। दिल्ली से मथुरा के बीच आए दिन इस तरह कि लूट की घटनाएं होती रहती हैं। यात्रियों की सुरक्षा सरकार की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। इस दौरान अंशु तिवारी, मोहम्मद रफ ीक, अमित सूद, चन्दा शर्मा, कुंजबिहारी शर्मा, डॉ. महेश पारीक, नरेश मेघवाल सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे। जिला कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष राखी गौतम ने घटना की निन्दा करते हुए कहा, पीडि़त को न्याय मिलना चाहिए। प्रमोद त्रिपाठी ने कहा, इस मुद्दे पर आंदोलन किया जाएगा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।