बेरोजगारों को सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर कभी जज तो कभी कलक्टर बन जाता था ठग, ऐसे खुली वारदात..

By: Rajesh Tripathi

Updated On: 13 Jun 2019, 08:37:57 PM IST

 
  • लाखों ठगने का आरोपी गिरफ्तार, भीमगंजमंडी पुलिस ने आरोपी से 6 सिमकार्ड व पांच आईडी की बरामद, दर्जन भर वारदातें कबूली

 

 

कोटा. बेरोजगारों को सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर उनसे ठगी करने के मामले में पुलिस ने एक शातिर ठग को नयापुरा के निजी होटल के बाहर से गुरुवार को दबोच लिया। प्रारंभिक पूछताछ में ही आरोपी ने एक दर्जन से अधिक बेरोजगारों को ठगकर लाखों की चपत लगाना स्वीकार किया। आरोपी को शुक्रवार को न्यायालय में पेश कर रिमांड की मांग की जाएगी। आरोपी के खिलाफ विभिन्न थानों में करीब ढाई दर्जन मुकदमें दर्ज है। इसके अलावा अन्य प्रकरण होने की संभावना को देखते हुए पुलिस अनुसंधार कर रही है। आरोपी के खिलाफ दर्ज अधिकांश मुकदमें धोखाधड़ी के है।

थानाधिकारी हर्षराज सिंह खरेड़ा ने बताया कि 10 मई 2019 को सुभाष कॉलोनी निवासी सुनीता महावर ने पुलिस में दर्ज करवाई रिपोर्ट में बताया कि करीब चार माह पूर्व उसके घर एक व्यक्ति आया। जिसने स्वयं का नाम मोहनलाल बताते हुए स्वयं को अधीक्षक कार्यालय में बड़ा अधिकारी बताया और उसके घर खाना बनाने की बात कही। इसके बाद से वह उसके यहां खाना बनाने का काम करने लगी। करीब एक पखवाड़े बाद स्वयं को अधीक्षक कार्यालय में बड़ा अधिकारी बताते हुए चार लाख रुपए देने पर उसे सरकारी नौकरी लगाने का झांसा दिया। रुपए देने पर वह फरार हो गया तथा फोन बंद कर दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस ने पीडि़ता के घर के आसपास के सीसीटीवी खंगाले। फुटेज में लक्जरी कार में शानोशौकत से रहने वाले आरोपी की पहचान महावीर नगर थाना क्षेत्र के संतोषी नगर निवासी हिस्ट्रीशीटर भंवरलाल (60) के रूप में हुई।

जज तो कभी कलक्टर बन जाता था भंवरलाल
बेरोजगारों को ठगने के लिए भंवरलाल अलग-अलग विभागों का अधिकारी बन जाता। उसके हौंसले इतने बुलंद है, कि वह स्वयं को कलक्टर, जज, रोडवेज अधिकारी, एमबीएस चिकित्सालय का अधिकारी बताता। उसने सुनीता से मुलाकात के समय स्वयं को बूंदी जज का पीए बीएल शर्मा बताते हुए अपना नाम मोहनलाल बताया। उसने सुनीता से चार लाख के अलावा भीमगंजमंडी व बूंदी निवासी दो जनों से ढाई-ढाई लाख रुपए ठगने की बात भी स्वीकार की।

सरकारी नौकरी से निकाल दिया था
पुलिस ने बताया कि आरोपी भंवरलाल बारां जिले के अटरू कस्बे का निवासी है। वह पूर्व में सरकारी कार्यालय में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी था, लेकिन नौकरी में धोखाधड़ी करने पर उस नौकरी से निकाल दिया गया था।

आज भी बुक सरकारी होटल में कमरा
पुलिस ने बताया कि ठग का गुरुवार को भी नयापुरा के चमन होटल में हेमराज मीणा के फर्जी नाम से कमरा नंबर 209 बुक करवा रखा है।

ALERT : आप भी रहे सतर्क, गूगल पे पर इस तरह हो रही ऑनलाइन
ठगी, सायबर टीम की सजगता से बच गए 50 हजार..

6 सिम, 5 आईडी बरामद

ठग बेरोजगारों को चूना लगाने के लिए स्वयं को अधिकारी बताते हुए प्रभाव जमाता था तथा इसके बाद सरकारी नौकरी का झांसा देकर लाखों रुपए ठग लेता था। पुलिस ने उसके कब्जे से अलग-अलग लोगों के नाम की 5 आईडी काड्र्स व 6 सिम, एक फाइल व तीन टाई बरामद की। आरोपी इन फर्जी सिम व आईडी का इस्तेमाल कर किराए का कमरा लेने व सिमकार्ड लेने का काम करता था।

शानोशोकत से रहता,मिलने के लिए सर्किट हाउस व कलेक्ट्रेड बुलाता
पुलिस ने बताया कि आरोपी हाई-फाई रहता था तथा शानोशौकत से रहता था। कहीं भी आने जाने के लिए वह किराए की कार का उपयोग करता था। इस पर आईडी व मोबाइल नंबर होने से भोले-भाले लोग उस पर विश्वास कर लेते और वह मौका पाकर सरकारी नौकरी का झांसा देकर उनसे लाखों रुपए ठग कर फरार हो जाता। वारदात को अंजाम देने के लिए वह बेरोजगार को सर्किट हाउस या कलेक्ट्रेड में बुलाता और उसके आने से पहले ही वह सर्किट हाउस या कलेक्ट्रेड के बाहर आकर खड़ा हो जाता था। ऐसे में बेरोजगारों को उसके अधिकारी होने का शक नहीं होता था।

कोटा में खाने और रूकने के नहीं थे पैसे तो रोज 200 किमी का
सफर तय किया, अब किसान की बेटी बनेगी डॉक्टर..

झांसा देकर जयपुर तक ले जाता था
ठग भंवरलाल बेरोजगार को सरकारी नौकरी का झांसा देकर जयपुर तक ले जाता तथा सरकारी कार्यालय के बाहर बेरोजगार को बैठाकर अधिकारी से मिलने के बहाने अंदर जाता तथा वहां से अधिकारी के स्वीकृति देने व उनके मीटिंग में होने का बहाना बनाकर बेरोजगारों से लाखों रुपए हड़प रहा था। वह महिलाओं को चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को नौकरी का झांसा देकर जयपुर तक ले जा चुका है।

Updated On:
13 Jun 2019, 08:04:45 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।