कोटा संभाग के सबसे बड़े अस्पताल में मरीजों की जान को खतरा, कलक्टर-कमिशनर तक की नहीं सुनते डॉक्टर

By: Zuber Khan

Updated On:
11 Sep 2019, 10:27:04 AM IST

  • MBS Hospital: हाड़ौती के सबसे बड़े अस्पताल में किसी भी पल बड़ा हादसा हो सकता है। मरीजों की जान खतरे में रहती है।

कोटा. मौसमी बीमारियों ( seasonal illness ) के बीच एमबीएस अस्पताल ( MBS Hospital ) के इमरजेंसी मेडिसिन वार्ड ( Emergency medicine ward ) को भी 'बीमारी' ने जकड़ लिया है। वार्ड में अव्यवस्थाओं का बोलबाला तो है ही, खतरा भी कम नहीं। वार्ड में ही ऑक्सीजन प्लांट है, ( Oxygen plant ) जिसमें बिजली का पैनल बॉक्स ( Electrical panel box ) खुला पड़ा है। इस पैनल बॉक्स में यदि आग लग जाए तो यहां भर्ती मरीजों की जान पर बन आएगी।

Read More: अनन्त चतुर्दशी पर कोटा में बंटेंगे 5 लाख आलू बड़े, फ्रूटक्रीम और हलुआ-पूड़ी, दुल्हन की तरह सजी शिक्षा नगरी

पूर्व में कई बार अस्पताल के औचक निरीक्षण के समय संभागीय आयुक्त व जिला कलक्टर तक इस वार्ड का निरीक्षण कर चुके। तब उन्होंने भी वार्ड से ऑक्सीजन प्लांट को शिफ्ट करने के निर्देश दिए थे, लेकिन उन निर्देशों की पालना नहीं की गई। ऑक्सीजन प्लांट जहां का तहां ही है और हादसे को न्यौता दे रहा है।

Read More: मोहर्रम: ए-आसमां देख ले जलवा हुसैन का.., या अली या हुसैन की गूंज से बुलंद हुआ आसमां, शहादत को सलाम करने उमड़ा कोटा

पैनल बॉक्स में लग चुकी आग
इमरजेंसी मेडिसिन वार्ड के बाहर अस्थि रोग विभाग के पास लगे पैनल बॉक्स में पहले भी कई बार आग लग चुकी। बावजूद अस्पताल प्रशासन सुरक्षा बरतने के लिए कोई सख्त कदम नहीं उठा रहा।

Read More: बड़ी खबर: कोटा में 4 दिन खत्म होने से पहले ही खत्म हो जाती है एक जिंदगी...कैसे पढि़ए खबर

टूटे दरवाजे व फर्श नहीं बदला
इमरजेंसी मेडिसिन वार्ड पूरा एसी है, लेकिन एसी इसे 'कूलÓ नहीं कर पाते। 30 बेड के इस वार्ड में 18 एसी हैं, लेकिन 9 ही चल रहे हैं। दो-तीन माह पहले एक महिला मरीज की मौत के बाद परिजनों ने इस वार्ड के शीशे के दरवाजे को तोड़ दिया था। उसके बाद नया दरवाजा नहीं लगा। परिसर की फर्शी भी उखड़ी पड़ी है। नर्सिंग स्टेशन की दीवार भी क्षतिग्रस्त है।

Read More: बड़ी खबर: कोटा दशहरा मेले में करोड़ों कमाने के लिए इवेंट कंपनियों ने किया खेल, जांच में खुली पोल, टेंडर निरस्त

कमरा बना, लेकिन शिफ्ट नहीं
अस्पताल अधीक्षक कक्ष के पास ही ऑक्सीजन प्लांट के लिए अलग नया कमरा बनकर तैयार है, लेकिन इमजेंसी मेडिसिन वार्ड से ऑक्सीजन प्लांट शिफ्ट नहीं किया। प्लांट में सिलेण्डरों में ऑक्सीजन भरने का काम होता है।

Watch: कोटा से धौलपुर तक हाई अलर्ट जारी: बैराज के 15 गेट खोल 3 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा, बस्तियां डूबी, रेस्क्यू कर लोगों को निकाला

हमने इमरजेंसी मेडिसिन वार्ड में मौजूद समस्याओं को लेकर कई बार अस्पताल प्रशासन को पत्र लिखे हैं। अग्रिम कार्रवाई अस्पताल प्रशासन ही करेगा।
बृजमोहन, प्रभारी, इमरजेंसी मेडिसिन वार्ड

ऑक्सीजन प्लांट को जल्द शिफ्ट करवाएंगे। खुले पड़े पैनल बॉक्स व बंद पड़े एसी को भी दिखवाकर ठीक करवाएंगे।
डॉ. नवीन सक्सेना, अधीक्षक, एमबीएस अस्पताल

Updated On:
11 Sep 2019, 10:27:04 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।