एवरेस्ट फतह करने वाली दिव्यांग अरुणिमा ने कहा, डर दुश्मन है, इसे हावी नहीं होने दें

By: Suraksha Rajora

Updated On: 25 Aug 2019, 09:28:34 PM IST

  • City Guest: पर्वतारोही पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा बोली, मुझे मां से मिली प्रेरणा

कोटा. एवरेस्ट फ तह करने वाली दिव्यांग पर्वतारोही पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा ने कहा कि यदि हम हौसला रखें तो कोई हमें हरा नहीं सकता। हमारी कमजोरी ही हमारी ताकत बन सकती है। बड़े लक्ष्य पालें उन्हें हासिल करने के लिए जी-तोड़ मेहनत करें। डर हमारा दुश्मन है, इसे हावी नहीं होने दें। मैंने माउंट एवरेस्ट के साथ सातों महाद्वीपों की चोटियों पर चढ़ाई की।

हिरासत में हनुमान की मौत, पत्नी ने पुलिस पर लगाया हत्या का आरोप, कहा शव पहुंचने से पहले ही चिता तैयार कर दी,अंतिम दर्शन भी नही करने दिए,

मुझे हिम्मत मेरी मां से मिलती है, जिन्होंने पिता के निधन के बाद हमारी परवरिश की। अब मैं दिव्यांगों की ताकत बनना चाहती हूं। देश-दुनिया में दिव्यांगों में ऊर्जा भरना चाहती हूं। भारत में एक ऐसी एकेडमी खोलने की मेरी इच्छा है, जहां दिव्यांगों को आगे बढऩे की हर स्वतंत्रता हो। हर सुविधा उपलब्ध करवाई जाए। जल्द ही मेरी कहानी सिनेमा के पर्दे पर नजर आएगी। इस दिशा में भी काम चल रहा है।

 

कथा में मनाया कृष्ण जन्मोत्सव

कोटा. महावीर नगर तृतीय स्थित दंडवीर हनुमान मंदिर में हो रही भागवत कथा मेंं रविवार को कृष्णजन्मोत्सव प्रसंग सुनाया। इस मौके पर झांकी भी सजाई गई। माखन मिश्री लुटाए गए। कथावाचक मुकुट बिहारी शास्त्री ने कहा कि जब भी आसुरी शक्तियां पनपने लगती हैं, तो प्रभु का प्राकट्य होता है। कंस व रावण का अत्याचार बढ़ा तो कृष्ण व राम प्रकटे। कथा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

 

 

Updated On:
25 Aug 2019, 09:28:33 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।