अन्नदाता अनभिज्ञ, यह कमा रहा था मोटा मुनाफा...बेच रहा था प्रतिबंधित कीटनाशक...पर्दाफाश...

By: Anil Sharma

Published On:
Jun, 12 2019 06:28 PM IST

 
  • दवाई इतनी जहरीली कि गेहूं में रखने पर दाने के ऊपर छोड़ देती प्रभाव... लोगों को कई तरह की बीमारियां होने की संभावना..सरकार ने इस पर पूर्ण रूप से लगा रखा था प्रतिबंध....

कोटा. नई धानमंडी इलाके में मंगलवार को प्रतिबंधित कीटनाशक दवा बेचने के मामले का भंडाफ ोड़ हुआ। सूचना पर कृषि विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे। अधिकारियों ने मौके पर ही प्रतिबंधित दवा को सील किया। इस दौरान मौका पाकर दुकान संचालक मुकेश टाडानी व नौकर मौके से फरार हो गए। विभाग की टीम जब दुकान संचालक के पास ही स्थित गोदाम पहुंची तो वहां भी ताला लगा मिला। टीम ने तीन गोदाम को सीज किया है। देर शाम को गुमानपुरा थाने में दुकान संचालक के खिलाफ प्रतिबंधित दवा बेचने का मामला दर्ज करवाया गया है।
बोगस ग्राहक भेजा
किसान नेता मुकुट नागर ने बताया कि नई धानमंडी इलाके में लम्बे समय से किसानों को प्रतिबंधित कीटनाशक दवा बेची जा रही थी, जबकि इस दवा पर दो साल पहले ही सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया। यह दवाई जहरीली है, जो गेहूं में रखने पर गेहूं के ऊपर प्रभाव छोड़ देती है। इससे शरीर में कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। इसी कारण सरकार ने इस पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध कर रखा है, लेकिन दुकानदार मुकेश टाडानी मोटा मुनाफ ा कमाने के लिए इन्हें खुद निर्मित कर बेचता है।
पहले भी यहां से दवा खरीदी गई। उस समय भी कृषि अधिकारियों को बताया था, लेकिन वे नहीं आए। मंगलवार को दोबारा महादेव बीज भंडार पर बोगस ग्राहक बनाकर भेजा। दुकान संचालक मुकेश व उसका नौकर बेखौफ होकर प्रतिबंधित दवा बेच रहे थे।

टीम पहुंची, मारा छापा
सूचना पर सीएडी के जिला विस्तार अधिकारी भगवान सिंह, कृषि विस्तार अधिकारी कैलाशचंद मीणा, कृषि अधिकारी सामान्य सत्यप्रकाश मीणा समेत अन्य अधिकारियों की टीम मौके पर पहुंची। यहां अधिकारियों ने प्रतिबंधित दवाओं को सील किया। इसी बीच दुकान संचालक के गोदाम पर भी छापा मारा गया, लेकिन मौका देखकर दुकान संचालक व उसका नौकर फ रार हो गया। टीम ने तीन गोदाम सीज किए।

लाइसेंस व स्टॉक रजिस्टर तक नहीं दिखाया
किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष राकेश कुमार चौहान ने बताया कि कार्रवाई के दौरान दुकानदार ने कृषि अधिकारियों का सहयोग नहीं किया व दुकान का लाइसेंस वे स्टॉक रजिस्टर मांगने पर नहीं दिखाया। दुकान संचालक ने कहा कि जीएसटी के चलते लाइसेंस व स्टॉक रजिस्टर वकील के पास रखा है। प्रतिबंधित दवा बेचने के मामले में दुकान संचालक व किसान नेता नागर के बीच जमकर बहस हुई। नागर ने कहा कि किसान तो पहले ही लुट रहा है। अब गेहूं में कीड़े मारने की दवा भी गलत बेची जा रही है। यह किसानों के साथ धोखा है।

दुकान संचालक प्रतिबंधित दवा बेचता पाया गया। दुकान से मिली दवा को सील कर दिया। गोदाम पर भी छापा मारा, लेकिन दुकान संचालक व नौकर फरार हो गया। उसके तीन गोदामों को सीज किया। शाम को दुकान संचालक के खिलाफ गुमानपुरा थाने में मामला दर्ज करवा दिया।
भगवान सिंह, जिला विस्तार अधिकारी सीएडी व जांच अधिकारी

Published On:
Jun, 12 2019 06:28 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।