कोर्ट के आदेश पर दुबारा हुए माप अप राउंड से एमबीबीएस में प्रवेश का गणित बदला

By: Suraksha Rajora

Updated On:
25 Aug 2019, 10:01:20 PM IST

  • mbbs कहीं खिले चेहर तो कहीं छाई मायूसी

 

कोटा. राजस्थान उच्च न्यायालय जयपुर के दिशा निर्देशों के अनुसार 24 एवं 25 अगस्त को पुन: आयोजित माप अप राउंड ने सीट आवंटन की पुरानी तस्वीर को पूरी तरह से बदल कर रख दिया। कैरियर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा ने बताया कि पुन: आयोजित किए जाने वाले माप राउंड की पात्रता सूची में विद्यार्थियों की संख्या में लगभग 60 प्रतिशत की वृद्धि के कारण कई विद्यार्थियों को निराशा हाथ लगी तो कई विद्यार्थियों को अपग्रेडेशन एवं अपवर्ड मूवमेंट के कारण मिली सफ लता ने खुशी से सारोबार कर दिया।

उन्होंने बताया कि हेमराज सैनी की ऑल इंडिया रैंक 13813 थी उसे पूर्व आयोजित माप अप राउंड में मेडिकल कॉलेज भरतपुर में गवर्नमेंट एमबीबीएस सीट आवंटित कर दी गई थी। किंतु 24 एवं 25 अगस्त को पुन: आयोजित माप अप राउंड में गवर्नमेंट एमबीबीएस सीट आवंटन ना होने के कारण उसे गहरी निराशा हाथ लगी।

हेमराज सैनी को गवर्नमेंट एमबीबीएस सीट ना मिलने का मुख्य कारण नई पात्रता सूची में उसकी स्टेट रैंक का पिछड़ जाना है। क्योंकि पूर्व जारी पात्रता सूची में सैनी की स्टेट रैंक 214 थी जबकि नई पात्रता सूची में उसकी स्टेट रैंक बढ़कर 1501 हो गई फलस्वरूप उसे सीट आवंटन नहीं हो पाया।

इसी तरह आशिमा मित्तल की ऑल इंडिया रैंक 13840 थी उसे पूर्व में मेडिकल कॉलेज भरतपुर में मैनेजमेंट एमबीबीएस सीट प्राप्त हुई थी किंतु अपग्रेडेशन का मौका मिलने के कारण उसे इस बार मेडिकल कॉलेज झालावाड़ की मैनेजमेंट एमबीबीएस सीट प्राप्त हुई। लगभग 13800 रैंक तक पुन: आयोजित किए जाने वाले माप अप राउंड विद्यार्थियों को गवर्नमेंट एमबीबीएस सीट प्राप्त हो गई।

 

Updated On:
25 Aug 2019, 10:01:20 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।