सीएफसीएल का किसान हित में बड़ा फैसला: अब हाड़ौती में रोजाना 2 हजार मीट्रिक टन यूरिया की होगी सप्लाई

By: Zuber Khan

Updated On:
19 Dec 2018, 07:00:00 AM IST

 
  • हाड़ौती में यूरिया की आपूर्ति नियमित दो हजार मीट्रिक टन की जाएगी और गढ़ेपान के 20 किमी की परिधि वाले गांवों में किसानों को नियमित यूरिया खाद दिया जाएगा।

सुल्तानपुर.(कोटा) हाड़ौती में यूरिया की आपूर्ति नियमित दो हजार मीट्रिक टन की जाएगी और गढ़ेपान के 20 किमी की परिधि वाले गांवों में किसानों को नियमित यूरिया खाद दिया जाएगा। किल्लत से आक्रोशित किसानों का कारखाने के बाहर गुस्सा फूटने के बाद सीएफसीएल प्रबन्धन ने इन पर सहमति जताई।

BIG NEWS : राजस्थान के इन 24 हजार लोगों को नहीं है वोट देने का अधिकार, जानिए किस खता की मिली सजा

इससे पहले हाड़ौती में खाद यूरिया खाद की किल्लत से परेशान किसानों का आक्रोश मंगलवार को फूट पड़ा। किसानों ने यहां गढ़ेपान स्थित खाद निर्माता चंबल फर्टिलाइजर एंड केमिकल लिमिटेड (सीएफसीएल) के बाहर धरना दिया और विरोध-प्रदर्शन कर अपनी पीड़ा बताई।

Read More: पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर रची खौफनाक साजिश, पति को बुलाया सुनसान जगह और उतार दिया मौत के घाट

भारतीय किसान संघ के बैनर तले कोटा व बारां जिले के सैकड़ों किसान सीएफसीएल फैक्ट्री के बाहर प्रान्त महामन्त्री जगदीश कलमण्डा के नेतृत्व में एकत्र हुए। दोपहर 12 बजे शुरू हुए धरने को संबोधित करते हुए किसान संघ पदाधिकारियों ने सीएफसीएल प्रशासन पर मनमर्जी का आरोप लगाया। किसानों ने भी सीएफसीएल के खिलाफ नारेबाजी की। किसानों के आक्रोश को देखते हुए कारखाना प्रबन्धन की पहल पर दोपहर 3 बजे कृषि विभाग के अधिकारी रामावतार शर्मा व फैक्ट्री के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ किसान प्रतिनिधि मण्डल की वार्ता हुई। इसमें खाद आपूर्ति बढाने पर सहमति बनी। इस मौके पर संघ के प्रदेश महामंत्री कैलाश गंदोलिया, शंकर लाल धाकड़ प्रान्त मन्त्री, गिरिराज चौधरी कोटा जिलाध्यक्ष, विक्रम सिंह सिरोहिया बारां जिलाध्यक्ष समेत कई मौजूद थे। किसान संघ पदाधिकारियों ने चेतावनी दी कि खाद की पर्याप्त आपूर्ति नहीं की गई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Read More: मौत का ये कैसा बहाना, खाना खाकर घर से निकला और वो बेरहमी से कुचल गया...

इन मांगों पर बनी सहमति

-फैक्ट्री प्रबन्धन की ओर से बुधवार से ही रोज दो हजार मीट्रिक टन यूरिया की आपूर्ति हाड़ौती सम्भाग में की जाएगी। तीन दिन बाद आपूर्ति 2 हजार मीट्रिक टन से बढ़ाकर किसानों की आवश्यकता के अनुसार कर दी जाएगी। अभी एक हजार मीट्रिक टन की ही आपूर्ति की जा रही थी।

- फैक्ट्री से 20 किलोमीटर की परिधि में आने वाले कस्बों में रोजाना नियमित यूरिया की आपूर्ति की जाएगी।

Updated On:
19 Dec 2018, 07:00:00 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।