यहां भगवान के हाथ पर अपना हाथ रख मांगते है मन्न्त, लेकिन आपका हाथ प्रभु के हाथ से फिसलने लगे तो.....

By: Badal Dewangan

Published On:
Sep, 03 2018 03:04 PM IST

  • सैकड़ों फीट ऊपर होने के कारण केशकाल घाट हुआ पहाड़ों का मनोरम दृश्य बहुत ही सुहाना लगता है । टाटामारी में बने टावर से और भी सुहावना दृश्य लगता है।

केशकाल. इस वर्ष जन्माष्टमी के एक दिन पूर्व ही केशकाल टाटामारी के पर्यटन स्थल को देखने क्षेत्र के हजारों लोगों का भीड़ टाटामारी जाने का एकमात्र रास्ता जो सिंगल रास्ता होने के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। पर्यटन स्थल से एक किलोमीटर पहले ही सभी चार पहिया व दो पहिए वाहनों को रख पैदल ही पर्यटन स्थल को देखने व प्रसिद्ध लक्ष्मी माता की मंदिर व अर्धनारीश्वर भगवान भोलेनाथ के दर्शन कर टाटा मारी का मनोरम दृश्य देखने पहुंचे।

मन्न्त मांगने का अनोखा तरीका
कहा जाता है कि, यहां लोग भगवान से अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए हजारों लोग यहां पहुंचते है। यहां भगवान भोलेनाथ से श्रद्धालू अपना हाथ भगवान की मूर्ति के हाथों में रखकर अपना मन्नत भगवान के सामने रखते है। जब श्रद्धालू अपनी मन्नत मांगते है तब उनका हाथ भगवान भोलेनाथ के हाथ से फिसलता ही रहता है। आप कितनी भी कोशिश कर ले आपका हाथ वहां रूकता ही नहीं है।

पहाड़ों का मनोरम दृश्य बहुत ही सुहाना लगता है
केशकाल घाट के बीच में मां तेलिन सती की मंदिर है जहां दर्शन के लिए सैकड़ों लोग पहुँचे घाट के ऊपर पर्यटन स्थल के लिए पंचवटी बनाया गया था। लेकिन विगत कुछ वर्षों से सीआरपीएफ का कब्जा होने से आम नागरिक को जाने नहीं मिलता। पंचवटी बंद होने के कारण से अब आम नागरिक व दर्शनार्थी नेशनल हाईवे से तीन किलोमीटर दूर में टाटामारी पर्यटन चेतना केंद्र को देखने पहुंचे।

दूर दराज से लोग टाटामारी पर्यटन स्थल को देखने पहुचे
ग्रामीणों ने बताया कि सैकड़ों फीट ऊपर होने के कारण केशकाल घाट हुआ पहाड़ों का मनोरम दृश्य बहुत ही सुहाना लगता है। टाटामारी में बने टावर से और भी सुहावना दृश्य लगता है इसलिए अधिकतर लोग टावर में चढ़कर ही पर्यटन स्थल मनोरम दृश्य को निहारते रहें और सेल्फी लेते रहें। दिनभर रुक रुक कर हल्की बारिश होती रही लेकिन पर्यटक पानी में भीगते हुए भी प्राकृतिक मनोरम दृश्य को देखने पहुंचे। इस वर्ष भी हजारों की संख्या में दूर दराज से लोग टाटामारी पर्यटन स्थल को देखने पहुचें। टाटामारी में महिला समूह द्वारा केंटीन चलाया जा रहा है जहां पर लोगों को के जलपान की व्यवस्था भी मिल जाता है।

निशुल्क औषधी पौधा वन विभाग ने बांटे
पर्यटनस्थल देखने जा रहे ग्रामीणों को वन विभाग के द्वारा नि:शुल्क पौधा दिया गया। इस दर्जन लोगो को कई प्रकार के औषधि युक्त पौधे भी ग्रामीणों को दिया गया और अधिक से अधिक पौधा लगाने हेतु समझाइश दी गई।

Published On:
Sep, 03 2018 03:04 PM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।