West Bengal: आखिर ममता बनर्जी सरकार पर क्यों भड़के राज्यपाल जगदीप धनखड़

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच का गतिरोध थमती नजर नहीं आ रही है।


- ममता सरकार और राजभवन एक बार फिर आमने-सामने
कोलकाता.
पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच का गतिरोध थमती नजर नहीं आ रही है। उत्तर 24 परगना के सुंदरवन के एक दिवसीय दौरे के क्रम में राज्यपाल ने मंगलवार को जिले के शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों व स्थानीय जनप्रतिनिधि की बैठक बुलाई थी। हैरत इस बात की है कि जिला प्रशासन का एक भी अधिकारी वहां हाजिर नहीं हुए। राज्यपाल धनखड़ के लिए यह दूसरा मौका है जब जिले की यात्रा के दौरान आहूत बैठक में कोई सरकारी मुलाजिम नहीं आया। इससे पहले राज्यपाल सिलीगुड़ी में इस तरह की बैठक बुलाए थे। जहां विपक्ष के लोग पहुंचे थे।
सुंदरवन की यात्रा के दौरान सरकारी उपेक्षा से तिलमिलाए राज्यपाल ममता सरकार पर भड़क उठे। उन्होंने इसे प्रशासन की ओर से असंवैधानिक कदम बताया। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में किसी प्रकार की सेंसरशिप है। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल ने पिछले हफ्ते उत्तर व दक्षिण 24 परगना जिलों के कलक्टर, नौकरशाहों और निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के साथ बैठकें करने की इच्छा जताई थी।

इधर, राजभवन के सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल कार्यालय को सोमवार शाम उक्त जिलों के कलक्टरों के पत्र मिले जिनमें मुख्यमंत्री के उत्तर बंगाल के दौरे में अधिकारियों की व्यस्तता के चलते राज्यपाल की बैठकों में शामिल नहीं हो पाने की बात कही गई है। जिले में आकर प्रशासनिक अधिकारियों की गैरहाजिरी पर राज्यपाल ने कहा कि ‘‘जिला अधिकारियों के पत्र देखकर मैं हैरान हूं, पत्रों में उन्होंने बैठकों में शामिल होने में असमर्थता जताई है वह भी तब जबकि उन्हें चार दिन पहले इस बाबत सूचना दी गई थी।

Show More
Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
Web Title: Why West Bengal Governor Vocal on Mamata Banerjee Government
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।